टीपू जयंती पर कर्नाटक में घमासान जारी, भाजपा के प्रदर्शन के बाद धारा 144 लागू

टीपू जयंती’ पर कर्नाटक में सियासी घमासान जारी है। राज्य सरकार द्वारा आयोजित किए जा रहे समारोह के खिलाफ भाजपा ने पूरे राज्य में विरोध प्रदर्शन कर रही है। बता दें कि टीपू सुल्तान 18वीं सदी में मैसूर साम्राज्य के शासक थे। इस बीच, मुख्यमंत्री कार्यालय ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि कुमारस्वामी डॉक्टर की सलाह के मद्देनजर अगले तीन दिन तक किसी आधिकारिक समारोह में हिस्सा नहीं लेंगे। ‘टीपू जयंती’ पर आयोजित प्रमुख समारोह का उद्घाटन उप मुख्यमंत्री जी परमेश्वर करेंगे।

उधर, भारी विरोध और प्रदर्शन के बीच आम जनजीवन प्रभावित हुआ है। प्रदर्शन को देखते हुए सड़कों पर गाड़ियां नहीं चल रही हैं। लोग जरूरी काम होने पर ही घर से बाहर निकल रहे हैं, ऐसे में कई जगहों पर सड़कों पर सन्नाटा भी पसरा है। कोडागू और विराजपत सहित कई इलाके प्रभावित हैं।

कोडागु की डिप्टी कमिश्नर पी आई श्रीविद्या का कहना है कि हमने सुरक्षा के पुख्ता इंतेजाम कर रखे हैं। अगर कोई कानून और व्यवस्था का उल्लंघन करता है तो उसपर पुलिस सख्त कार्रवाई करेगी।
वहीं प्रदर्शन कर रहे विभिन्न समूहों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। तनाव को देखते हुए कोडागु, हुबली और धारवाड़ में धारा 144 लागू कर दी गई है।

पार्टी ने सरकार से जश्न समारोह को रद्द करने की अपील करते हुए बेंगलुरू, मैसूर और कोडागू में विभिन्न स्थानों पर प्रदर्शन किया। जदएस-कांग्रेस के गठबंधन वाली सरकार का नेतृत्व करने वाले मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने पिछले सप्ताह कहा था कि पिछली कांग्रेस सरकार की नीति को बरकरार रखते हुए 10 नवम्बर को ‘टीपू जयंती’ मनाई जाएगी।

कोडागु में 2016 और 2017 में टीपू जयंती के दौरान हिंसा की घटनाएं हुई थीं। वहीं दूसरी तरफ कर्नाटक सरकार ने घोषणा कर दी है कि वह बीजेपी के विरोध के बावजूद इस वर्ष भी 18वीं सदी के मैसूर के शासक टीपू सुल्तान की जयंती अपने तय कार्यक्रम के मुताबिक ही मनाएगी। बीजेपी ने मैसूर के शासक को अत्याचारी करार दिया है।

केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने कहा है कि एक अत्याचारी के जन्मदिन को मनाए जाने की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि टीपू सुल्तान हिंदू विरोधी थे। बीजेपी प्रवक्ता एस प्रकाश ने कहा कि जब पिछली कांग्रेस सरकार ने टीपू जयंती मनाने का फैसला किया था, उस समय उनका काफी विरोध हुआ था।

इससे पहले येदियुरप्पा ने भी इसका विरोध करते हुए कहा था, ‘हम टीपू जयंती का विरोध कर रहे हैं और लोगों के हित में राज्य सरकार को इसे रोकना चाहिए।’ उन्होंने कहा, ‘टीपू जयंती मनाने के पीछे सरकार की मंशा केवल मुस्लिम समुदाय को संतुष्ट करने की है।’ विरोध के बाद मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने चेतावनी दी है कि यदि किसी ने आधिकारिक कार्यक्रम में बाधा डाली तो उसे कानून का सामना करना होगा।