पाकिस्तान ने कबूला उसी के यहां से आए थे घुसपैठिए, BSF ने सौंपे शव

भारतीय सेना की गोलियों से मारे गए घुसपैठिए को पाकिस्तान ने स्वीकार लिया है. भारतीय सीमा सुरक्षा बल (BSF) और पाकिस्तानी रेंजर्स के बीच हुई फ्लैग मीटिंग में पड़ोसी देश ने कबूल किया है कि भारत में घुसपैठ करने वाले लोग उनके नागरिक थे. बीएसएफ ने मारे गए घुसपैठिए का शव पाकिस्तान को सौंप दिया. पाकिस्तानी अधिकारियों ने कहा कि उनके नागरिक गलती से भारतीय सीमा में पहुंच गए थे.

रविवार सुबह भारतीय जवानों ने इन पाकिस्तानी घुसपैठिए को मार गिराया था. बताया जा रहा है कि ये घुसपैठिए शनिवार-रविवार की रात अनूपगढ़ क्षेत्र में भारत-पाक अंतर्राष्ट्रीय सीमा के नजदीक स्थिति कैलाश पोस्ट पर भारतीय सीमा को लांघने की कोशिश कर रहे थे, इसी दौरान बीएसफ के जवानों ने इन्हें मार गिराया था. मंगलवार सुबह दोनों देशों की सीमा सुरक्षा बल के बीच हुई फ्लैग मीटिंग में घुसपैठिए के शव सौंपे गए.

मालूम हो कि मारे गए घुसपैठिए की पहचान पाकिस्तानी नागरिक मोहम्मद हुसैन के रूप में हुई है. वह पाकिस्तान के मोहल्ला अमजद ग्रीन टाउन गोजरा जिला टोबाटेक का रहने वाला था. शनिवार-रविवार की रात वह पिल्लर नंबर 369-2 एस के पास जीरो लाइन को पार करने की कोशिश कर भारत में घुसपैठ करने का प्रयास कर रहा था. इसी दौरान भारतीय सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने उसे ढेर कर दिया था.

शव को पाकिस्तान को सौंपने के लिए लगातार दो दिनों तक पाकिस्तान रेजंर्स के साथ हुई फ्लैग मिटिंग में पाकिस्तान ने उक्त नागरिक के पाकिस्तानी होने की तफ्तीश करने की बात कही थी. दो दिन की बैठकों में लगातार सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने पाकिस्तानी रेंजर्स को उक्त नागरिक के पास मिले पाकिस्तानी पहचान पत्र के दस्तावेज दिखाए थे. इसके बाद मंगलवार को पाकिस्तान ने घुसपैठ की कोशिश करने वाले मोहम्मद हुसैन अपना नागरिक मान लिया. उच्चस्तर पर की गई कार्रवाई के बाद मंगलवार को पाकिस्तानी नागरिक के शव को पाकिस्तानी रेजंर्स के सुपुर्द कर दिया गया. पाकिस्तान ने माना की यह नागरिक गलती से जीरो लाइन पर आ गया था.