भारत सहित 8 देशों को ईरान तेल पर अमेरिकी प्रतिबंधों से मिली छूट

अमेरिका ने ईरान से तेल खरीदने की पाबंदी से भारत, चीन और जापान सहित आठ देशों को फिलहाल मोहलत दी है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने सोमवार को इसकी जानकारी दी। अमेरिका ने यह रियायत इस आधार पर दी है क्यों की इन देशों ने ईरान से तेल खरीद में पहले ही भारी कटौती कर दी है। अमेरिका की ओर से ईरान के साथ परमाणु समझौते से अपने को अलग कर उसके तेल और वित्तीय क्षेत्र के विरुद्ध काफी सख्त प्रतिबंध लगाए दिए है। ये प्रतिबंध आज से लागू हो गए हैं।

पोम्पियो ने आठ देशों की सूची की घोषणा की है जिन्हें ईरान से तेल आयात प्रतिबंध में छूट दी गई है। हालांकि, इसके साथ ही उन्होंने कहा कि ईरान पर दबाव बनाने के लिये अमेरिका हर संभव प्रयास करता रहेगा। पोम्पियो ने जिन आठ देशों की सूची जारी की है उनमें भारत, चीन, जापान के साथ ही इटली, यूनान, दक्षिण कोरिया, ताइवान और तुर्की भी शामिल है। अमेरिका ने ईरान सरकार के व्यवहार में बदलाव लाने के लिये उस पर अब तक के सबसे सख्त प्रतिबंध लगाये हैं। इन प्रतिबंधों के तहत ईरान के बैंक और ऊर्जा क्षेत्र को शामिल किया गया है। ईरान से तेल आयात नहीं रोकने वाले यूरोप, एशिया और अन्य देशों पर जुर्माना भी तय किया है।

अमेरिका इससे पहले चाहता था कि भारत सहित सभी देश ईरान से पूरी तरह से तेल आयात बंद करें लेकिन यदि ऐसा होता तो कच्चे तेल के बाजार में भारी उठापटक होने का खतरा बढ़ जाता। संभवत: यह विचार कर कुछ देशों को इसमें छूट दी गई है ताकि वह धीरे धीरे ईरान से तेल की खरीदारी बंद कर सकें। भारत दुनिया में कच्चे तेल का तीसरा बड़ा उपभोक्ता देश है। अपनी कुल जरूरत का 80 प्रतिशत आयात के जरिये पूरा करता है। इराक और सउदी अरब के बाद ईरान भारत का तीसरा बड़ा आपूर्तिकर्ता देश है।

ट्रम्प प्रशासन यह भी ध्यान रखेगा कि तेल निर्यात से ईरान की सरकार पर्याप्त रेवेन्यू भी न हासिल कर सके। पिछले महीने कई देशों को तेल आयात में छूट मिलने की अटकलों से वैश्विक बाजार में क्रूड ऑयल के दाम 15% तक गिरकर 85 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गए थे। साथ ही, यह संकेत भी मिले थे कि ओपेक सदस्य आपूर्ति में आई कमी को पूरा करेंगे। शुक्रवार सुबह लंदन में क्रूड वायदा की कीमत 73.04 डॉलर प्रति बैरल थी।