स्वतंत्रता दिवस से ठीक पहले वायुसेना प्रमुख की हुंकार, दुश्मनों को कराया ताकत का अहसास

15 अगस्त से ठीक 24 घंटे पहले वायुसेना प्रमुख ने दुश्मनों को कड़ा संदेश दिया. वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने पश्चिमी वायु कमान के फ्रंटलाइन एयरबेस का दौरा किया और यहां लड़ाकू विमान मिग-21 उड़ाकर दुश्मनों को वायुसेना की जबरदस्त तैयारियों का अहसास करा दिया.

वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया स्वतंत्रता दिवस से ठीक 48 घंटे पहले मिग-21 में क्यों सवार हुए? दुश्मन देश यही सोच-सोचकर परेशान हैं.

भारतीय वायुसेना ने जानकारी दी कि वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया पश्चिमी वायु कमान में एक फ्रंटलाइन एयर बेस के दौरे पर पहुंचे. उन्होंने वहां फ्रंट लाइन एयर बेस पर सुरक्षा तैयारियों का जायजा लिया. वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने बेस पर तैनात स्क्वाड्रन के कॉम्बैट क्रू और एयरक्रू से मुलाकात की. और सबसे बड़ी बात, वायुसेना प्रमुख ने खुद इस एयर बेस से लड़ाकू विमान मिग-21 को उड़ाया.

वायुसेना प्रमुख ने इससे पहले चीन से जारी तनाव के बीच लेह-लद्दाख का दौरा किया था, वहां पहुंचकर तैयारियों को देखा और परखा था. 29 जुलाई को जब देश में रफाल लड़ाकू विमान आए, तब भी वायुसेना अध्यक्ष खुद अंबाला एयरबेस पर मौजूद थे.

वास्तविक नियंत्रण रेखा पर वायुसेना की तैयारी बड़ी है. चीन के दुस्साहस का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए LAC पर वायुसेना ने अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर की तैनाती करके रखी है. इसके अलावा, हाल ही में हिमाचल प्रदेश में रात में रफाल फाइटर जेट ने युद्ध अभ्यास करके चीन और पाकिस्तान दोनों को पराक्रमी संदेश दिया बॉर्डर पर कोई भी धोखा बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. दुश्मनों को जवाब दिया जाएगा और जवाब करारा होगा