दक्षिण कश्मीर में 29 विदेशी आतंकी सक्रिय :आईजीपी

 जम्मू कश्मीर पुलिस ने शनिवार को कहा कि दक्षिण कश्मीर में 29 विदेशी आतंकी सक्रिय हैं लेकिन सुरक्षा बल उनसे निपटने और पूरे दक्षिण कश्मीर से आतंकवाद का सफाया करने का पर्याप्त अनुभव रखते हैं। पुलिस महानिरीक्षक (आईजीपी), कश्मीर, विजय कुमार ने कहा, ‘‘कोकेरनाग, त्राल और ख्रियू के ऊपरी इलाकों में विदेशी आतंकियों की मौजूदगी है। दक्षिण कश्मीर में करीब 29 विदेशी आतंकी सक्रिय हैं और जब वे नीचे आएंगे और हमारे सूत्र हमें (उनके बारे में) सूचित करेंगे तो हम उन्हें मार गिराएंगे।’’ वह शुक्रवार को अनंतनाग जिले के बिजबेहारा इलाके में एक आतंकी हमले में मारे गए सीआरपीएफ के एक जवान के श्रद्धांजलि समारोह से इतर संवाददाताओं से बात कर रहे थे। जब आईजी से पूछा गया कि क्या विदेशी आतंकी स्थानीय आतंकवादियों से बड़ी चुनौती हैं तो उन्होंने कहा कि दोनों चुनौती हैं लेकिन बल उनसे निपटने का पर्याप्त अनुभव रखते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘विदेशी आतंकी हों या स्थानीय, दोनों ही चुनौती हैं। हालांकि विदेशी आतंकी अधिक प्रशिक्षित होते हैं। हमारे सुरक्षा बल, विशेष रूप से एसओजी के जवान भलीभांति प्रशिक्षित हैं और पिछले 25 साल से यह काम कर रहे हैं तथा हमने उनसे निपटने में विशेषज्ञता हासिल कर ली है। अहमियत सटीक जानकारी की है और एक बार हमें यह मिल जाए तो हम उनका सफाया कर देंगे।’’ कुमार ने कहा कि दक्षिण कश्मीर में आतंकवादियों की संख्या उत्तर कश्मीर के मुकाबले ज्यादा है लेकिन सुरक्षा बलों ने उत्तर कश्मीर में भी आतंकवाद रोधी अभियान शुरू कर दिये हैं। उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन दक्षिण में आतंकवादी बचे हुए हैं और हमारी प्राथमिकता उनसे निपटना है।’’ उत्तर कश्मीर में हाल ही में आतंकवाद से जुड़ी घटनाओं और वहां आतंकियों की स्थिति अधिक मजबूत होने की आशंका के सवाल पर पुलिस महानिरीक्षक ने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘इस तरह की धारणा है कि उत्तर में आतंकवादी अधिक मजबूत हैं क्योंकि मई के पहले सप्ताह में हमारी तरफ बहुत नुकसान हुआ, लेकिन ऐसी बात नहीं है। उत्तर कश्मीर में कम संख्या में आतंकी हैं लेकिन हम उन्हें जल्द मार गिराएंगे।’’ कुमार ने कहा कि सुरक्षा बलों ने पुलवामा जिले के त्राल इलाके से हिज्बुल मुजाहिदीन का सफाया करके बड़ी सफलता अर्जित की है और पूरे दक्षिण कश्मीर से आतकवाद को समाप्त करने का मकसद है। उन्होंने कहा, ‘‘त्राल को सोपोर और शोपियां के साथ 1989 से आतंकवादियों के केंद्र के रूप में जाना जाता है। त्राल एक दुर्गम भूभाग है और वहां हमेशा से आतंकी रहे हैं। हिज्बुल एक पुराना संगठन है जो हर संगठन को शरण देता है। त्राल इलाके से हिज्बुल का सफाया करना सुरक्षा बलों के लिए बड़ी सफलता की बात है और हमारा प्रयास पूरे दक्षिण कश्मीर से आतंकवाद के सफाये का होगा।’’ जब अधिकारी से पूछा गया कि क्या सुरक्षा बल हिज्बुल आतंकियों को चुन-चुन कर मार रहे हैं तो आईजीपी ने कहा कि बल चुनिंदा तरीके से आतंकियों पर कार्रवाई नहीं करते। उन्होंने कहा, ‘‘जब हमें सूचना मिलती है तो हम अभियान शुरू करते हैं और जो भी आतंकवादी हो, हम उसे मार गिराते हैं।’’ बिजबेहारा में शुक्रवार को हुए हमले के बारे में पूछे जाने पर कुमार ने कहा कि उन्होंने हमलावर की पहचान कर ली है और उसके खिलाफ जल्द कार्रवाई होगी।