31 अक्‍टूबर से शुरू होगी संघ की बैठक, राम मंदिर निर्माण पर हो सकती है चर्चा

राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (आरएसएस) की अहम बैठक 31 अक्‍टूबर से मुंबई के पास भायंदर में शुरू होने वाली है. तीन दिनों तक चलने वाली इस बैठक में देश भर से संघ के पदाधिकारी और कार्यकर्ता शामिल होंगे. माना जा रहा है कि अयोध्‍या में राम मंदिर निर्माण को लेकर भी इस बैठक में अहम चर्चा हो सकती है. हालांकि मंगलवार को इस तीन दिवसीय बैठक के मुद्दों के चयन पर भी एक बैठक की जाएगी. इसमें तीन दिनी बैठक की पूरी रूपरेखा तैयार की जाएगी.

आरएसएस की अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक मुंबई से सटे भायंदर स्थित केशव सृष्टि में 31 अक्टूबर से शुरू होने जा रही है. इस बैठक का समापन दो नवंबर को होगा. दीपावली पर्व के आसपास होने वाली यह बैठक ‘दीपावली बैठक’ के नाम से भी चर्चित है. आरएसएस के वरिष्ठ पदाधिकारियों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक इस बैठक में विभिन्न सामाजिक एवं धार्मिक विषयों पर चर्चा होगी.इस बैठक में सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत, सरकार्यवाह सुरेश जोशी उपाख्य भैयाजी, सह-सरकार्यवाह सुरेश सोनी, डॉ. कृष्ण गोपाल, दत्तात्रेय होसबले, वी.भागय्या, डॉ.मनमोहन वैद्य प्रमुख रूप से मौजूद रहेंगे. इसमें देशभर से करीब 300 प्रमुख पदाधिकारी भी हिस्सा लेंगे. इस दौरान सबरीमाला मंदिर प्रकरण, राम मंदिर निर्माण मुद्दा, बांग्लादेशी घुसपैठ और अर्बन नक्सलवाद जैसे मुद्दों पर चर्चा हो सकती है.

बता दें कि नागपुर में आयोजित विजयादशमी (दशहरा) उत्सव में सरसंघचालक डॉ. भागवत ने अपने भाषण में सबरीमाला मंदिर, राम मंदिर तथा अर्बन नक्सलवाद समेत कई बिन्दुओं पर चर्चा की थी. इसलिए उम्मीद जताई जा रही है कि कार्यकारी मंडल की बैठक में भी इन विषयों की चर्चा हो सकती है और इससे जुड़े प्रस्ताव भी पारित किए जाएंगे.

पिछले वर्ष कार्यकारी मंडल की बैठक में कहा गया था कि गांव और किसान अनेक समस्याओं से जूझ रहे हैं. किसानों को आर्थिक रूप से सक्षम बनाना जरूरी है. उन्हें स्वावलंबी बनाने के लिए सरकार को नीति बनानी चाहिए और यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि उन्हें उनकी फसल का उचित मूल्य मिल सके. संघ प्रयास करेगा कि किसान जैविक खेती की ओर लौटें. बैठक में रोहिंग्या और राम मंदिर के मुद्दे पर चर्चा हुई थी.