कोरोना संकट के बीच पाकिस्तान की नापाक साजिश, घुसपैठ के लिए LoC पर जुटे 40-50 आतंकी

गर्मियां बढ़ने के साथ ही कश्मीर (Kashmir) में घुसपैठ के लिए पाकिस्तान (Pakistan) की टेरर फैक्ट्रियों से निकले नए आतंकवादी (Terrorists) तैयार हो गए हैं. खुफिया सूत्रों के मुताबिक पूरी नियंत्रण रेखा पर 40 से 50 आतंकवादी घुसपैठ के लिए तैयार बैठे हैं. इनसे निपटने के लिए सेना ने गर्मियों में की जाने वाली अपनी तैनाती बढ़ा दी है और नियंत्रण रेखा पर सैनिकों, हथियारों और सर्विलांस उपकरणों की तादाद बढ़ा दी है.

सूत्रों के मुताबिक लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादियों के दो गिरोह कश्मीर में मच्छिल के दूसरी तरफ केल और तेजियान में जमा हैं. लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादियों के दो अन्य गिरोह केरन के दूसरी तरफ अथमुकाम में जमा हैं. इन दोनों जगह 5 से 7 आतंकी एक गिरोह में हो सकते हैं. लश्कर के ही 6 आतंकवादी तंगधार के पार लिपा में लॉन्च पैड्स पर जमा हैं. लिपा वो जगह है जहां भारतीय सेना ने 2016 में सर्जिकल स्ट्राइक की थी. अल बदर के 4 आतंकवादी पुंछ के दूसरी तरफ जाबरी में एकत्र हुए हैं. कृष्णा घाटी के दूसरी तरफ भी अल बदर के 5 आतंकवादियों के देखे जाने की खबर है.

नौशेरा के दूसरी तरफ जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा के 11-11 आतंकवादियों के घुसपैठ की फिराक में जमा होने की खबर है. नियंत्रण रेखा पर भारतीय सेना पर आईईडी से हमले करने के लिए खासतौर पर प्रशिक्षित लश्कर के 9 आतंकवादी भिंबर गली के दूसरी तरफ जमा हैं.

एक और खबर के मुताबिक अनंतनाग में मौजूद जैश के आतंकवादियों का एक गिरोह पुलिस और सीआरपीएफ की चौकियों पर ग्रेनेड हमले के लिए तैयारी करके पहुंच चुका है.

सेना के सूत्रों का कहना है कि इस बार पाकिस्तान की तरफ से होने वाली हरकतों में इजाफा होने की आशंका है. इसलिए सेना ने अपनी चौकसी बढ़ा दी है लेकिन आने वाले कुछ महीने सेना के लिए काफी चुनौतीपूर्ण होने की संभावना है.