जम्मू कश्मीर प्रशासन ने अवैध धन हासिल करने वाले आईएएस अधिकारी से 39.69 लाख रुपये वापस लिए

 जम्मू कश्मीर प्रशासन ने एक संगठन से कथित तौर पर ‘‘अवैध’’ तरीके से धन लेने वाले एक वरिष्ठ आईएएस अधिकारी से 39.69 लाख रुपये वापस लिए और मामले में उनके खिलाफ जांच की सिफारिश की है । सूत्रों ने इस बारे में बताया। उन्होंने बताया कि उपराज्यपाल प्रशासन ने संगठन से अवैध तौर पर वित्तीय लाभ हासिल करने के लिए वरिष्ठ आईएएस अधिकारी को नोटिस दिया था और उनसे लाखों रुपये की रकम का भुगतान करने को कहा गया था । सूत्रों ने बताया कि अधिकारी ने हाल में संगठन को 39,69,359 रुपये वापस कर दिये । सूत्रों के मुताबिक, अधिकारी ने बाद में बताया कि 20,86,120 रुपये टीडीएस में कटवाकर आयकर विभाग में जमा करवाये गये । सूत्रों ने बताया कि प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कोई जुर्माना लगाने के पहले सरकार के नियमों के तहत आईएएस अधिकारी के खिलाफ जांच करने की सिफारिश की थी। उन्होंने बताया कि अधिकारी के खिलाफ चेतावनी पत्र भी जारी करने और कार्मिक एवं प्रशिक्षण मंत्रालय को अवगत कराए बिना मामले को बंद करने की भी सिफारिश की गई। हालांकि, उपराज्यपाल जी सी मुर्मू ने डीओपीटी की जांच के पहले मामला बंद करने से इनकार कर दिया । उपराज्यपाल प्रशासन ने डीओपीटी से मामले को ‘छिपाने’ का गहरा संज्ञान लिया और इसकी जांच करने का निर्देश दिया है । इससे पहले जून में प्रशासन ने डीओपीटी को पत्र लिखकर एक आईएएस अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा था जिन्होंने अमरनाथ यात्रा के लिए प्रथम पूजा करने से अमरनाथ श्राइन बोर्ड के अधिकारियों को रोका था । सूत्रों ने उस वक्त कहा था कि पिछले कुछ वर्षों में यह पहला मामला है जब जम्मू कश्मीर प्रशासन ने किसी नौकरशाह के खिलाफ शिकायत की । सूत्रों ने बताया कि जम्मू कश्मीर प्रशासन को मुद्दे पर डीओपीटी द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में औपचारिक रूप से कोई जवाब नहीं मिला है ।