जम्मू-श्रीनगर हाइवे पर असैन्य यातायात से सोमवार को हटेगी पाबंदी

जम्मू-कश्मीर राज्यपाल प्रशासन ने श्रीनगर और जम्मू के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग पर सोमवार से असैन्य यातायात पर प्रतिबंध लगाने के आदेश को मंगलवार को वापस ले लिया। एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि राज्य में सुरक्षा स्थिति की समीक्षा और सुरक्षा बलों के काफिले की जरूरत के बाद राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने जम्मू को श्रीनगर से जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग पर असैन्य यातायात पर 27 मई से प्रतिबंध हटाने का फैसला किया है।

राजमार्ग पर असैन्य यातायात पर प्रतिबंध का आखिरी दिन 26 मई होगा। बयान के अनुसार, पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद बड़े पैमाने पर सुरक्षाबलों की गतिविधि के बाद ये पाबंदियां लगाना अनिवार्य हो गया है। सुरक्षाबलों की जरूरत आतंकवाद रोधी अभियानों और आम चुनाव के सुचारू संचालन दोनों के लिए होती है।

हफ्ते में दो दिन के लिए लागू था प्रतिबंध
सुरक्षाबलों के काफिलों के सुरक्षित आवागमन के लिए राज्य प्रशासन ने बारामुला से उधमपुर राजमार्ग पर सप्ताह में दो बार रविवार और बुधवार को सुबह 4 बजे से शाम 5 बजे तक असैन्य यातायात पर प्रतिबंध लागू किया गया था। हालांकि, प्रतिबंध की अवधि के दौरान सार्वजनिक आवागमन के लिए स्थानीय प्रशासन ने व्यापक बंदोबस्त किए थे।

बयान में कहा गया, ‘श्री अमरनाथ जी यात्रा के लिए तैयारियों के संबंध में सभी सुरक्षा एजेंसियों, सिविल और पुलिस प्रशासन के साथ मंगलवार को विस्तृत समीक्षा के बाद राज्यपाल ने निर्देश दिया कि अगले सोमवार से राजमार्ग पर असैन्य आवागमन पर कोई पाबंदी ना हो।’