J&K: वसीम बारी की हत्या से बीजेपी नेताओं में खौफ, अब तक 6 का इस्तीफा

कश्मीर बीजेपी में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। नॉर्थ कश्मीर से बीजेपी की महिला नेता समेत दो नेताओं ने इस्तीफा दे दिया है। नॉर्थ कश्मीर में बीजेपी से इस्तीफा देने वाले नेताओं की गिनती चार हो गई है। इससे पहले बारामूला और कुपवाड़ा के दो नेताओं ने सुरक्षा कारणों के चलते अपना इस्तीफा दिया था।

जानकारी के अनुसार, बीजेपी की महिला नेता मुबीना बानो ने गुरुवार को इस्तीफा देने की घोषणा की है। उन्होंने बताया कि वह वर्ष 2015 से सामाजिक काम कर रही हैं। उसके बाद वह बीजेपी में शामिल हुई ताकि समाज सेवा कर सकें, लेकिन अब वह बीजेपी के साथ और काम नहीं कर सकती हैं। इसलिए उन्होंने बीजेपी को छोड़ दिया है। महिला नेता के इस्तीफा देने के बाद बीजेपी कश्मीर इकाई में तरह-तरह की चर्चाएं हैं।

इनके अलावा बशीर अहमद मलिक ने भी बीजेपी से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने सोशल साइटों पर भी इसकी पुष्टि की है। जिसमें कहा है कि वह अपने कारणों के चलते बीजेपी से इस्तीफा दे रहे हैं। उन्होंने नेताओं को इसकी जानकारी दे दी है। उन्होंने बताया कि वह करीब दो माह पहले बीजेपी में शामिल हुए थे, लेकिन वह बीजेपी के साथ और नहीं चल सकते हैं। इसलिए बीजेपी से अपना रिश्ता तोड़ रहे हैं।

पिछले छह दिनों में कश्मीर के तीन नेताओं ने इस्तीफा दिया है। जिसमें बारामूला के नेता मारूफ बट और कुपवाड़ा के आसिफ अहमद शामिल हैं। ये इस्तीफे बीजेपी नेता वसीम बारी, उनके भाई और पिता की हत्या के बाद दिए गए हैं। इनकी हत्या के बाद आतंकियों की तरफ से फरमान जारी किया गया था। जिसमें आतंकियों ने बीजेपी नेताओं को इस्तीफा देने के लिए कहा था।

आतंकियों ने दी थी बीजेपी नेताओं को अंजाम भुगतने की धमकी
नेताओं को कहा गया था कि अगर वह इस्तीफा नहीं देते हैं तो उसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे। बता दें कि बुधवार को आतंकियों ने बीजेपी नेता मेहराजुदीन मल्ला का अपहरण किया था। घर के बाहर से उन्हें उठा लिया गया था। उसके बाद आतंकी जंगल में ले गए थे। शाम को छोड़ दिया गया था। इस घटना के अगले ही दिन महिला नेता की तरफ से इस्तीफा दिया गया है। उन्होंने कहा कि वह पहले भी सामाजिक काम करती थी। आगे भी काम जारी रखेगी, लेकिन वह बीजेपी के साथ अब नहीं है। वह बीजेपी में सिर्फ सेवा करने के मसकद से आई थीं। जिसे वह बिना बीजेपी के भी कर सकती हैं।

कश्मीर में बीजेपी नेताओं को है अपनी जान का डर
कश्मीर में बीजेपी के नेताओं को खतरा है। इसके पीछे कारण यह बताया जा रहा है कि आतंकियों की तरफ से नेताओं की हत्या का प्लान बनाया गया है। जिसकी रिपोर्ट सुरक्षा एजेंसियों को है। इसलिए कश्मीर में सक्रिय बीजेपी के नेताओं की सुरक्षा को बढ़ाया गया है, लेकिन आतंकियों के फरमान के बाद अब नेताओं के इस्तीफे देने का सिलसिला शुरू हो गया है।