गंडोत्रा की 2.85 करोड़ की बेनामी संपत्ति जब्त, एंटी करप्शन ब्यूरो में 2018 में दर्ज किया गया था केस

बेनामी संपत्ति के मामले में एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने पूर्व अधिकारी प्रणव गंडोत्रा की 2.80 करोड़ की संपत्ति जब्त कर ली। इनमें करीब डेढ़ करोड़ के छन्नी हिम्मत के तीन प्लॉट, करीब 1.35 करोड़ के 4.361 किलो सोने और 11.389 किलो चांदी के गहने शामिल हैं। आरोप है कि गंडोत्रा ने सतवारी का टीएसओ और जम्मू के केरोसिन आयल इंस्पेक्टर रहते करोड़ों रुपये की संपत्ति जमा की थी। 2018 में गंडोत्रा के खिलाफ शिकायत आने के बाद केस दर्ज किया गया था। तब से एसीबी जांच-पड़ताल कर रहा है।
आरोप है कि राजोरी और कालाकोट में इंचार्ज टीएसओ रहते हुए गंडोत्रा ने राजोरी के सहायक निदेशक सीएपीडी से बड़े पैमाने पर फंड लिया था। बड़े स्तर पर सरकारी राशन को प्राइवेट डीलरों को बेचा था। शुरूआती जांच में बैंक खातों में गड़बड़ी का भी पर्दाफाश हुआ था।

पूर्व एआरटीओ की संपत्ति भी जब्त
एसीबी ने शोपियां और पुलवामा के पूर्व एआरटीओ अब्दुल मजीद भट्ट की भी करोड़ों रुपये की संपत्ति जब्त कर ली है। मजीद पर भी 2018 से बेनामी संपत्ति का केस दर्ज है। आरोपी के श्रीनगर में दो घर, सेब के लिए कार्ड बोर्ड बनाने वाली फैक्ट्री, अवंतीपोरा में दावत नाम का रेस्तरां, लाखों रुपये के गहने, कश्मीर में कुछ अन्य घर, बच्चों के नाम लाखों की एफडीआर हैं। जांच में मजीद पर आरोप साबित हो चुके हैं।