फोनी में 200 किमी की रफ्तार से चली हवा ने उड़ाई बस, IIT नहीं इस कॉलेज की

चक्रवाती तूफान फानी ने पड़ोसी राज्य पश्चिम बंगाल में दस्तक देने के पहले 200 किलोमीटर प्रतिघंटे की तेज रफ्तार से आगे बढ़ते हुए ओडिशा के कई जिलों में भारी तबाही मचा दी है. फोनी की वजह से तेज बारिश हो रही है और हवाएं चल रही हैं. राज्‍य सरकार ने ओडिशा में करीब 11 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा है. साथ ही अन्‍य लोगों को घरों पर ही रहने की सलाह दी गई है. भुवनेश्वर में भी तेज हवाओं ने काफी कहर बरपाया है.

इसी दौरान एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है. दावा किया जा रहा है कि यह वीडियो आईआईटी भुवनेश्वर का है लेकिन आपको बता दें कि यह वीडियो भुवनेश्वर के गांधी इंजीनियरिंग कॉलेज का है. जहां तेज हवाओं ने पार्किंग में खड़ी बस को ही पलट दिया है.

नौसेना, वायुसेना और थलसेना हालात पर कड़ी निगरानी रखे हुए हैं. चक्रवाती तूफान ने पुरी के पास के ओडिशा के तटीय क्षेत्र को सुबह 8 से 10 बजे के बीच में पार करना शुरू कर दिया था, हालांकि यह क्रम दोपहर 1 बजे तक जारी रहा. तूफान ने कई जिलों में सड़क और बिजली व्यवस्था को भारी नुकसान पहुंचाया है. विशेष राहत आयुक्त विष्णुपद सेठी ने कहा कि उन्हें पेड़-पौधों के क्षतिग्रस्त होने की जानकारी मिली है, वहीं इस दौरान जानमाल को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है. ओडिशा में शुक्रवार को चक्रवात फानी को लेकर सावधानी के मद्देनजर बीते 24 घंटों में करीब 11 लाख लोगों को राज्य के कई जिलों से हटाया जा चुका है. अधिकारियों ने इस बात की.

जानकारी दी. इसमें गंजम और पुरी के जिलों से क्रमश: 3 लाख और 1.3 लाख लोग सुरक्षित स्थान पर भेजे गए. कई लोग हालांकि अपने घरों से बाहर नहीं जाना चाहते थे, जिससे निकासी के दौरान बचावकर्मियों को काफी मशक्क्त का सामना करना पड़ा. वहीं, पुरी, पारादीप, भुवनेश्वर, गोपालपुर में गुरुवार रात से ही हल्की बारिश हो रही है. 174 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से चल रही तेज हवा ने चिल्का क्षेत्र को नुकसान पहुंचाया है. तकरीबन 10 हजार ग्रामीण और 52 स्थानीय शहरी लोग इस चक्रवाती तूफान से प्रभावित हुए हैं. राज्य सरकार ने लोगों को घर से बाहर न निकलने की सलाह दी है. वहीं 11 तटीय जिलों में सभी दुकानें, व्यापारिक प्रतिष्ठान, निजी व सरकारी दफ्तर बंद रहे.