CBSE की एवरेज मार्किंग व्यवस्था को SC ने दी मंज़ूरी, 15 जुलाई से पहले रिजल्ट का एलान

देश के दो बड़े स्कूली शिक्षा बोर्ड सीबीएसई (CBSE) और आईसीएसई (ICSE) ने अपनी 10वीं और 12वीं कक्षा की परीक्षाएं रद्द कर दी हैं. यह परीक्षाएं 1 से 15 जुलाई के बीच होनी थी. CBSE ने रद्द की गई परीक्षाओं के लिए एवरेज मार्किंग की योजना सुप्रीम कोर्ट के सामने रखी, जिसे कोर्ट ने मंजूरी दे दी है. ICSE भी एवरेज मार्किंग के नियम तय करते हुए 1 हफ्ते के भीतर नोटिफिकेशन जारी करेगा. दोनों बोर्ड 15 जुलाई से पहले नतीजों की घोषणा कर देंगे.

सुप्रीम कोर्ट में दाखिल याचिकाओं में 1 से 15 जुलाई के बीच होने वाली CBSE की परीक्षा को चुनौती दी गई थी. इसमें कोरोना के मद्देनजर परीक्षा के आयोजन को खतरनाक बताया गया था.

इस तरह काम करेगी ‘एवरेज मार्किंग स्कीम’

कोर्ट ने CBSE से इन परीक्षाओं को रद्द कर छात्रों को अंक देने की कोई व्यवस्था बनाने के लिए कहा था. जिसके बाद बोर्ड की तरफ से बताया गया कि उसने 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं रद्द करने का फैसला किया है.

इन परीक्षाओं में अंक देने की व्यवस्था यह रहेगी-

  • जिन छात्रों ने सभी विषयों की परीक्षा दे दी है, उनका रिजल्ट हर विषय में प्राप्त अंक के आधार पर जारी किया जाएगा
  • जिन छात्रों ने 3 से ज्यादा विषयों की परीक्षा दी है, उनके बेस्ट ऑफ थ्री अंक का औसत निकालते हुए बचे हुए विषयों के अंक दिए जाएंगे
  • जिन्होंने सिर्फ तीन परीक्षाएं दी हैं, उनके बेस्ट ऑफ 2 का औसत निकालकर बचे हुए विषयों में अंक दिए जाएंगे
  • जिन्होंने एक या दो परीक्षा ही दी हैं, उनका एवरेज उस परीक्षा में हासिल अंक और इंटर्नल एसेसमेंट/प्रैक्टिकल में प्राप्त अंक के आधार पर निकाला जाएगा.

12वीं के छात्रों को फिर मिलेगा मौका

CBSE ने यह भी बताया कि दसवीं की परीक्षा पूरी तरह से रद्द कर दी गई है, लेकिन 12वीं के छात्रों को हालात सुधरने पर परीक्षा देने का मौका दिया जाएगा.

बोर्ड ने सुनवाई के दौरान कहा कि एवरेज मार्किंग रिजल्ट के ऐलान के बाद, एक तय समय सीमा के भीतर ही छात्रों को यह बताने का मौका दिया जाएगा कि वह बाद में जब परीक्षा होगी तो उसमें शामिल होना चाहेंगे या नहीं.

10वीं और 12वीं के छात्रों को ICSE देगा मौका

ICSE ने भी सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि वह अपनी बची हुई परीक्षाओं को रद्द कर रहा है. वह भी एवरेज मार्किंग के जरिए छात्रों को अंक देगा. हालांकि, उसकी मार्किंग व्यवस्था CBSE से थोड़ी अलग होगी.

कोर्ट ने इसकी इजाजत देते हुए कहा कि ICSE 1 हफ्ते के भीतर इस बारे में नोटिफिकेशन जारी कर दे. ICSE ने यह भी बताया है कि वह 12वीं ही नहीं 10वीं के छात्रों को भी बाद में परीक्षा का मौका देने पर विचार करेगा.

दोनों ही बोर्ड 10वीं और 12वीं के नतीजे 15 जुलाई से पहले घोषित कर देंगे.