भारत के 59 ऐप्स बैन करने से चीन की परेशानी बढ़ी, कहा- बेहद चिंतित हैं, पूरी स्थिति पर नज़र है

भारत सरकार के 59 चीनी ऐप्स को बैन करने के फैसले पर चीन की सरकार की तरफ से प्रतिक्रिया आई है. चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिज़ियान ने कहा कि वह इस कदम से बेहद चिंतित हैं और पूरी स्थिति पर नज़र रखें हुए हैं. इससे पहले भारत सरकार चीन के साथ तनाव की स्थिति के बीच TikTok समेत 59 ऐप्स को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताते हुए बैन कर दिया था.

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिज़ियान ने कहा, ”चीन सरकार ने हमेशा चीन की बिजनेस कंपनियों को इंटरनेशनल और देश के कानून के तहत चलने के लिए कहा है. भारत सरकार की जिम्मेदारी है कि वह अपने दायित्व को समझते हुए चीन समेत बाकी इंटरनेशनल निवेश करने वालों के कानूनी हितों का खय़ाल रखे.”

भारत सरकार ने ऐप्स को बैन करते वक्त अपने बयान में कहा था, ”हमारे पास उपलब्ध जानकारी के मुताबिक ये 59 ऐप्स उन गतिविधियों में शुमार हैं जो कि भारत की संप्रभुता और अखंडता, सुरक्षा, राज्य की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के लिए खतरनाक हैं.”

ऐप्स को तुरंत हटाने का आदेश दिया गया

भारत सरकार के बैन पर टिक टॉक की तरफ से आधिकारिक प्रतिक्रिया आई थी. टिक टॉक ने दावा किया है कि उसने कभी भी भारतीय यूजर्स का डेटा चीन की सरकार के साथ शेयर नहीं किया है. टिक टॉक ने यह भी कहा कि वह जल्द ही इस मामले में भारत सरकार से बात करने की कोशिश करेगा.

वहीं भारत सरकार इस मामले पर बेहद सख्त रूख अपनाए हुए है. भारत सरकार ने गूगल से कहा है कि वह तुरंत सभी बैन किए गए 59 ऐप्स को प्ले स्टोर से हटाए. इससे पहले मंगलवार सुबह तक बैन किए गए अधिकतर ऐप्स प्ले स्टोर पर डाउनलोड किए जाने के लिए उपलब्ध थे.