देशभर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 51 हजार के पार

देश में कोरोना वायरस मरीजों का आंकड़ा 27 लाख के पार जा चुका है. सोमवार को देशभर में कोरोना के 51,797 नए मामले सामने आने के बाद इस घातक वायरस से अब तक संक्रमित हुए लोगों की कुल संख्या बढ़कर 27,02,742 हो गई.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक पिछले 24 घंटे में देशभर में 876 कोरोना मरीजों की मौत हुई. अब मृतकों का कुल आंकड़ा बढ़कर 51,797 हो गया है. हालांकि देश में 19,77,779 लोग अभी तक कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुके हैं. देश में अभी कोविड-19 के 6,73,166 मरीजों का इलाज जारी है.

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) के अनुसार देश में 17 अगस्त तक कुल 3,09,41,264 नमूनों की जांच की जा चुकी है, जिनमें से 8,99,864 नमूनों की जांच सोमवार को की गई. पिछले कुछ दिनों से हर दिन औसतन 7 से 8 लाख नमूनों की जांच की जा रही है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देशभर में कोरोना मरीजों का रिकवरी रेट बढ़कर 73.17 प्रतिशत हो गया है. वहीं पॉजिटिविटी रेट में भारी गिरावट दर्ज की गई है. कुछ दिन पहले पॉजिटिविटी रेट 8 से 10 के बीच रहता था लेकिन अभी ये घटकर 6.12 प्रतिशत हो गया है.

इस बीच कोरोना वायरस को लेकर अमेरिका के दो वैज्ञानिकों (US scientists) ने चौंकाने वाला खुलासा किया है. इन वैज्ञानिकों का कहना है कि ये वायरस करीब आठ साल पहले चीन की खदान में पाया गया था.

वैज्ञानिकों के मुताबिक, दुनिया आज जिस कोरोना वायरस से प्रभावित है, वो आठ साल पहले चीन में मिले वायरस का ही घातक रूप है. चीन के वुहान से फैले कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर कई तरह की बातें कही जाती रही हैं. अमेरिका सहित कुछ देशों का दावा है कि वुहान लैब में जानबूझकर वायरस तैयार किया गया. जबकि चीन कहता आया है कि मांस बाजार में सबसे पहले वायरस का पता चला. लेकिन वैज्ञानिकों ने बिल्कुल नई तस्वीर पेश की है.