J&K: वैष्णों देवी यात्रा पर मंडराया कोरोना का खतरा, पुजारी सहित 12 लोग पॉजिटिव

माता वैष्णों देवी की यात्रा को खोलने पर खतरा बन गया है। क्योंकि माता वैष्णों देवी भवन के अभी तक 12 पॉजिटिव मामले आ गए है। जिसमें छह पुजारी, एक हेड पुजारी, एक सेक्यूरटर सुपरवाइजर तथा तीन भजनीक शामिल है। उसके बाद बोर्ड की तरफ से वीरवार को बैठक की जा रही है। जिसमें भवन को कंटोनमेंट जोन बनाया जा सकता है। फिलहाल बैठक जारी है। उसके बाद जो फैसला आएगा उसके हिसाब से ही आगे काम किया जाएगा

जानकारी के अनुसार सरकार की तरफ से 16 अगस्त को यात्रा को शुरु करने के लिए कहा गया था। आदेश आने के बाद बोर्ड की तरफ से तैयारियों को शुरु कर दिया गया। जिसमें बाकी इंतजाम करने के अलावा अपने कर्मचारियों के टेस्ट भी करवाने का काम शुरु कर दिया गया। टेस्ट करवाने के दौरान दो दिन पहले चार पाजिटिव मामले आ गए थे। जिसमें तीन भजनीक शामिल थे। उसके बाद अब सात और नये मामले आ गए है। जिसमें छह पुजारी तथा एक हेड पुजारी शामिल है।

इसके अलावा सुरक्षा के लिए लगाए गए कर्मचारियों का सुपरवाइजर भी पॉजिटिव आ गया है। जिन्हें अस्पताल में रेफर किया गया। लेकिन इतने मामले आने के बाद बोर्ड सकते में आ गया है। क्योंकि अगर सिर्फ भवन के इतने कर्मचारी पॉजिटिव आ सकते हैं तो बाकी कर्मचारियों के भी संक्रमित होने का खतरा बन गया है।

कई कर्मचारियों की रिपोर्ट आई पॉजिटिव
जब यात्रा को बंद किया गया था तो पूरे भवन से यात्रियों को वापस लौटा दिया गया था। सिर्फ कर्मचारियों को रहने दिया गया था। पूरे ट्रैक को खाली करवाया गया था। कर्मचारियों को घरों को ना जाने के लिए कहा गया था। क्योंकि बोर्ड को लगता था कि अगर ऐसे हालात में कर्मचारी भवन से बाहर गए तो संक्रमित हो सकते है। इसलिए उन्हें रोका गया था। लेकिन अब पाजिटिव आने के बाद माना जा रहा है कि कर्मचारी चोरी छिपे अपने घरों को गए थे। जिससे की वह संक्रमित हो गए और उनके साथ संर्पक में आए बाकी कर्मचारी भी संक्रमित हो गए है।

बोर्ड की तरफ से बनाए गए थे कई नियम
पूरा देश माता की यात्रा के खुलने का इंतजार कर रहा है। जिसके लिए बोर्ड की तरफ से पूरे नियम बनाए जा रहे थे। ताकि भक्तों को आने में कोई दिक्कत ना हो सके। कोरोना से बचाव के पूरे तरीके किए जा रहे थे। पूरे ट्रैक को सेनैटाइज किया गया था। लेकिन इस बीच बोर्ड के अपने ही कर्मचारी पॉजिटिव आ गए है। अभी कई कर्मचारियों के टेस्ट की रिपोर्ट आना बाकी है। इसलिए इस मामले में फैसला किया जा रहा है।