सोपोर हमले में नागरिक की मौत पर उठे सवाल, सीआरपीएफ ने आरोपों को किया खारिज

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के एडीजी ज़ुल्फ़िकार हसन ने गुरुवार को कहा कि सीआरपीएफ ने नागरिक को कार से निकाल लिया और उसे गोली मार दी, यह आरोप गलत है और दोहराया कि “वह आतंकवादियों की गोलीबारी में मारे गए”।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, “यह एक बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण घटना थी कि वह आतंकवादियों द्वारा की गई गोलीबारी में मारे गए। मुझे लगता है कि कुछ लोगों ने यह कहकर मामले को तोड़ने मरोड़ने की कोशिश की है कि सीआरपीएफ उन्हें (मृतक नागरिक) वाहन से बाहर ले गया और उसे गोली मार दी। यह पूरी तरह से असत्य है। ”

उन्होंने आगे कहा, “तस्वीरों सहित बहुत सारे तकनीकी विवरणों की जांच करने के बाद, हम इस बात को लेकर बहुत आश्वस्त हैं कि क्या हुआ है। मैं लोगों से अनुरोध करूंगा कि वे उग्रवादियों को दोष दें कि वे मस्जिदों के अंदर छिपे हुए हैं। उस आदमी को आतंकवादियों ने एक मस्जिद से गोलीबारी करके मार दिया। ” एडीजी ने आगे कहा कि घटना में सीआरपीएफ की भागीदारी का “कोई सवाल नहीं है”। “सीआरपीएफ द्वारा गोलीबारी को रोक दिया गया था ताकि हम मस्जिद को कोई नुकसान न पहुंचाएं।”

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर के सोपोर मुठभेड़ में एक परिवार के सदस्य के आरोप के बाद विवाद पैदा हो गया कि उनके रिश्तेदार को सुरक्षा बलों द्वारा गोलीबारी में मार दिया गया था। सीआरपीएफ ने एक बयान में स्पष्ट किया था कि गोलीबारी एक मस्जिद से हो रही थी जहां आतंकवादी छिपे हुए थे। सीआरपीएफ ने कहा, “एक नागरिक वाहन जो सोपोर से कुपवाड़ा की ओर आ रहा था, आतंकवादियों की फायरिंग रेंज में फंस गया था। वाहन चला रहा एक बूढ़ा व्यक्ति कार को रोक दिया और सुरक्षित स्थान के लिए दूर जाने के लिए वाहन से नीचे उतर गया, लेकिन आतंकी गोलीबारी से मारा गया। बाद में, एक बच्चे को सुरक्षा बलों ने बचाया। “

इससे पहले, सोपोर में एक सीआरपीएफ के गश्ती दल पर आतंकवादियों द्वारा गोलीबारी करने के बाद सीआरपीएफ के एक जवान और एक नागरिक की जान चली गई थी। घायल सीआरपीएफ जवानों में से दो की हालत गंभीर बताई जा रही है।