जम्मू-कश्मीर के युवाओं के लिए ही हों सरकारी नौकरियां, राज्य का दर्जा बहाल हो : राणा

नेशनल कांफ्रेंस के प्रांतीय अध्यक्ष देवेंद्र सिंह राणा ने शनिवार को कहा कि जम्मू व कश्मीर में सरकारी नौकरियों में स्थायी निवासियों के लिए विशेष अधिकार होने चाहिए जैसे कि महाराज हरि सिंह द्वारा 1927 में बनाए गए कानून के तहत थे। उन्होंने कहा कि नए डोमिसाइल कानून में उन्हें पहली श्रेणी का दर्जा दिया जाना चाहिए।

इसके साथ ही राणा ने कहा कि केन्द्र सरकार को जम्मू और कश्मीर का राज्य का दर्जा बहाल करना चाहिए। उन्होंने कहा कि कोरोना के प्रकोप के मद्देनजर राजनीति के लिए यह उपयुक्त समय नहीं है लेकिन इसके बावजूद हम अपनी चिंताओं को जाहिर करने की जरूरत महसूस करते हैं।

राज्य के दर्जे की बहाली की जोरदार तरीके से पैरवी करते हुए प्रांतीय अध्यक्ष ने कहा कि जम्मू कश्मीर को एक राज्य से केंद्र शासित बनाए जाने से लोगों पर एक मनोवैज्ञानिक दबाव पड़ा है जो महाराजा गुलाब सिंह द्वारा बनाए गए एक बड़े राज्य के उत्तराधिकारी हैं।
उन्होंने राज्य के दर्जे की बहाली पर जोर देते हुए तत्काल से चुनाव कराने की बात भी कही ताकि लोग लोकतांत्रिक तरीके से अपने प्रतिनिधियों को चुन सकें। राणा ने आगे कहा कि चुनाव कराओ और जम्मू-कश्मीर के लोगों को देश के बाकी हिस्सों में नागरिकों की तरह अपने फैसले लेने दें।