क्या ISI और पाकिस्तानी सेना ने भारत में भेजा था ड्रोन, बीएसएफ IG ने कही ये बड़ी बात

जम्मू-कश्मीर के कठुआ में बीएसएफ ने पाकिस्तान द्वारा हथियारों को लेकर भारतीय सीमा में घुसपैठ कर रहे एक ड्रोन को मार गिराया है. बीएसएफ का दावा है कि इस ड्रोन को पाकिस्तान की ठाकुरपुर पोस्ट से उड़ाया गया था. बीएसएफ के जम्मू फ्रंटियर के आईजी एन एस जम्वाल ने एबीपी न्यूज़ से बातचीत में कहा कि बिना ISI और पाकिस्तानी सेना के समर्थन के पाकिस्तानी सीमा से इतना बड़ा ड्रोन उड़ाना और हथियारों की इतनी बड़ी खेप भारत पहुंचाना नामुमकिन है.

एन एस जम्वाल ने कहा, ‘पाकिस्तान की ठाकुरपुर पोस्ट से उड़ाए गए ड्रोन को भारत में अली बाबा नाम का शख्स लेने आ रहा था. उन्होंने आगे कहा कि इसको पकड़ लेना यह एक बड़ी कामयाबी है.’

37 किलो तक का वज़न उठा सकता था ये ड्रोन- एन एस जम्वाल

उन्होंने कहा कि सुबह करीब 5:30 बजे पहले कठुआ के पंसर इलाके में गश्त कर रहे बीएसएफ जवानों ने ड्रोन की आवाज़ सुनी, जिसे तुरंत ही मार गिराया गया. इस ड्रोन के साथ विंच सिस्टम लगाया गया था और यह करीब 37 किलो तक लोड उठा सकता है.

उन्होंने आगे यह भी दावा किया कि इस ड्रोन में जीपीएस सिस्टम भी लगाया गया था, जिससे यह उसी जगह लैंड हो सके जिस जगह पाकिस्तान इसे उतारना चाहता था. इस ड्रोन के साथ अमेरिका में बनी एक एम-4 राइफल, 2 मैगज़ीन और ग्रेनेड मिले हैं.

उन्होंने आगे खुलासा किया कि इस ड्रोन के पे लोड में अली बाबा नाम के एक शख्स का ज़िक्र भी है, जो कोड नाम भी हो सकता है. उन्होंने आशंका जताई कि जिस भी शख्स को हथियारों की यह खेप लेनी थी, वह पंसर में सीमा से सटे इलाके में ही मौजूद हो सकता है.

सीमा से सटे इलाकों में सर्च ऑपरेशन जारी- आईजी

बीएसएफ ने दावा किया है कि सीमा के साथ इलाको में सर्च आपरेशन जारी है. बीएसएफ के आईजी ने यह भी दावा किया कि बिना आईएसआई और पाकिस्तानी सेना के समर्थन के पाकिस्तानी सीमा से इतना बड़ा ड्रोन उड़ाना और हथियारों की खेप भारत पहुंचाना मुमकिन नहीं है.