चुनाव 2019: पांचवें चरण में एक फीसदी बढ़ी वोटिंग, अनंतनाग में सबसे कम मतदान

लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के पांचवें चरण में 51 सीटों पर सोमवार को हुये मतदान में पिछले चुनाव की तुलना में लगभग एक प्रतिशत का इजाफा हुआ है. उप चुनाव आयुक्त संदीप सक्सेना ने बताया कि सात राज्यों की 51 सीटों पर शाम छह बजे तक प्राप्त जानकारी के मुताबिक 62.56 प्रतिशत मतदान हुआ. जबकि 2014 के लोकसभा चुनाव में इन सीटों पर मत प्रतिशत 61.75 रहा था. हालांकि इस चरण में पिछले चार चरण की तुलना में मत प्रतिशत सबसे कम रहा.

उन्होंने पिछले चार चरण के मतदान संबंधी प्राप्त अंतिम आंकड़ों के आधार पर बताया कि पहले चरण में 69.50 प्रतिशत, दूसरे चरण में 69.44 प्रतिशत, तीसरे चरण में 68.40 प्रतिशत और चौथे चरण में 65.51 प्रतिशत मतदान हुआ था. सक्सेना ने बताया कि झारखंड, राजस्थान, जम्मू कश्मीर और पश्चिम बंगाल में मतदान बाधित करने की छिटपुट घटनाओं को छोड़कर सभी जगह मतदान शांतिपूर्ण रहा. उन्होंने बताया कि पांचवें चरण में उत्तर प्रदेश और बिहार में मतदान का स्तर पिछले चुनाव की तुलना में बढ़ा है.

उत्तर प्रदेश की 14 सीटों पर शाम पांच बजे तक 57.33 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया. पिछले चुनाव में इन सीटों पर 56.92 प्रतिशत मतदान हुआ था. उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश में लखनऊ से गृह मंत्री राजनाथ सिंह, अमेठी से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी तथा रायबरेली से संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी चुनाव मैदान में हैं. राज्य की जिन अन्य सीटों पर पांचवें चरण में मतदान हुआ उनमें धौरहरा, सीतापुर, मोहनलालगंज, बांदा, फतेहपुर, कौशांबी, बाराबंकी, फैजाबाद, बहराइच, कैसरगंज और गोंडा शामिल हैं.

इसके अलावा बिहार में पांच सीटों (हाजीपुर, मुजफ्फरपुर, मधुबनी, सीतामढ़ी और सारण) पर शाम छह बजे तक 57.86 प्रतिशत मतदाताओं ने मताधिकार का प्रयोग किया. इन सीटों पर 2014 में 55.69 प्रतिशत मतदान हुआ था. भाजपा के वरिष्ठ नेता राजीव प्रताप रूढ़ी सारण से और बिहार सरकार में मंत्री पशुपति कुमार पारस लोजपा के टिकट पर हाजीपुर से चुनाव मैदान में हैं.

इस चरण में राजस्थान की 12 सीटों पर 63.75 प्रतिशत मतदान हुआ. पिछले चुनाव में इन सीटों पर 61.80 प्रतिशत मतदान हुआ था. राज्य के प्रमुख उम्मीदवारों में केन्द्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल बीकानेर से और जयपुर ग्रामीण क्षेत्र से राज्यवर्धन सिंह राठौर भाजपा उम्मीदवार के रुप में चुनाव मैदान में हैं. राठौर का मुकाबला ओलंपिक पदक विजेता और कांग्रेस उम्मीदवार कृष्णा पूनिया से है. सक्सेना ने बताया कि राजस्थान में चार स्थानों अनूपगढ़, बीकानेर, सूरतगढ़ और चुरु में स्थानीय संगठनों ने मतदान का बहिष्कार किया. लेकिन स्थानीय प्रशासन के दखल पर शाम तीन बजे से मतदान शुरु हो सका.

पांचवें चरण में सबसे कम मतदान जम्मू कश्मीर की अनंतनाग सीट पर दर्ज किया गया. इस सीट पर तीन चरण में संपन्न हुये मतदान का प्रतिशत सिर्फ 8.76 रहा. इस सीट पर पिछले चुनाव में मतदान का स्तर 28.5 प्रतिशत था. राज्य में राजपुरा क्षेत्र में दो बार ग्रेनेड से विस्फोट कर मतदान बाधित करने की कोशिश नाकाम रही. इन घटनाओं में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है. इसके अलावा सोमवार को लद्दाख सीट पर 61.56 प्रतिशत मतदान हुआ. इस सीट पर 2014 में 71.9 प्रतिशत वोट डाले गये थे.

मध्य प्रदेश की सात सीटों पर शाम पांच बजे तक 62.60 प्रतिशत मतदाताओं ने वोट डाले. पिछले चुनाव में इन सीटों पर मत प्रतिशत 57.86 रहा था. सोमवार को राज्य में जिन सीटों पर मतदान हुआ उनमें प्रमुख उम्मीदवारों में टीकमगढ़ सीट से केन्द्रीय मंत्री डॉ. वीरेन्द्र खटीक शामिल हैं. वह भाजपा उम्मीदवार के रूप में चुनाव मैदान में हैं. झारखंड की चार सीटों पर शाम पांच बजे तक 63.72 प्रतिशत मतदान हुआ था. पिछले चुनाव में भी इन सीटों पर लगभग इतना ही मतप्रतिशत रहा था. राज्य में वामपंथी संगठनों द्वारा मतदान बाधित करने की छिटपुट घटनाओं को छोड़कर मतदान शांतिपूर्ण रहा.

पश्चिम बंगाल में पांचवें चरण में सात सीटों पर 73.97 प्रतिशत मतदान हुआ. इन सीटों पर 2014 में 81.37 प्रतिशत मतदान हुआ था. राज्य में मतदान में बाधा पहुंचाने की पांच घटनाओं को छोड़कर मतदान शांतिपूर्ण रहा. उल्लेखनीय है कि पांच चरण के मतदान के बाद 17वीं लोकसभा के गठन के लिये 78 प्रतिशत लोकसभा सीटों पर मतदान संपन्न हो चुका है. सक्सेना ने बताया कि इन चरणों में लोकसभा की 543 सीटों में से अब तक 26 राज्यों की 424 सीटों पर मतदान हो गया है.