केंद्र सरकार का जम्मू-कश्मीर के किसानों को बड़ा तोहफा, फसल के अच्छे दाम दिलवाए जाएंगे

 जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटने के एक साल पूरा होने से पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रदेश के किसानों को बड़ा तोहफा दिया है. केंद्र सरकार ने जम्मू और कश्मीर के किसानों को उनकी फसल के अच्छे दाम दिलवाने और उन्हें बिचौलियों से बचाने के लिए प्रदेश की दो मंडियों को राष्ट्रीय कृषि बाजार के साथ जोड़ दिया है.

जम्मू कश्मीर के किसानों के अच्छे दिन आ गये है. मोदी सरकार ने जम्मू की नरवाल मंडी के साथ-साथ कश्मीर की एक बड़ी मंडी को राष्ट्रीय कृषि बाजार के साथ जोड़ दिया है. जम्मू की नरवाल मंडी का शुमार उत्तर भारत की बड़ी मंडियों में होता है. इन मंडियों में ई-ऑक्शन हाल बनाये गए है जिनमें किसानों के बैठने के लिए व्यवस्था के साथ ही यहां इंटरनेट की सुविधा के साथ-साथ एलईडी टीवी लगाए गए है. जिससे किसानों को उस दिन के उस समय का फसल का दाम लाइव पता चल पाए.

इसके साथ ही नरवाल मंडी में किसान मंडी में अपनी फसल बेचने आये किसानों की अलग से एंट्री, फसल की सैंपलिंग, ऑनलाइन ट्रेडिंग, फसल को तोलने, इनवॉइस और ऑनलाइन पेमेंट के इंतज़ाम भी किये गए है. वहीँ, जम्मू के किसानों के मुताबिक इस पहल से किसानों के दिन सुधरने वाले है और इससे जुड़ने के लिए किसानों में जागरूकता लानी ज़रूरी है.

किसानों के मुताबिक अब उन्हें जम्मू में बैठ कर देश भर की मंडियों में फसल की कीमतों का पता लगने से उन्हें अपनी पैदावार के अच्छे दाम मिलेंगे. वहीँ जम्मू की नरवाल मंडी में कृषि विभाग के मेंबर सेक्रेटरी अरविन्द तलगोत्रा का दावा है कि अब तक जो भी किसान जहां अपनी फसल लेकर आता था उसकी फसल का अधिकतर लाभ बिचोलिये ले जाते थे. लेकिन अब इस पहल से बिचौलियों के रोल को ख़त्म करने की तैयारी की जा रही है. कृषि विभाग का दावा है कि अब इस नयी पहल से किसानों की आमदनी बढ़ेगी.