कोरोना वायरसः जम्मू के रिहायशी जिले में लगाया गया फ्री चिकित्सा शिविर, उपलब्ध कराई गई दवाईयां

मौजूदा समय में कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए यातायात प्रभावित होने के कारण जम्मू के रियासी ज़िले में आस पास के गांव के लोगों की कोरोना जांच के लिए एक कैंप गांव में ही लगाया गया है. इस कैंप में जम्मू के रियासी ज़िले में सलाल पावर स्टेशन में आस पास के गांव वाले लोगों को कोरोना महामारी से बचने और इससे लड़ने के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के मक़सद में कैंप लगाया गया.

चिकित्सा शिविर में 205 रोगियों की हुई जांच

इस निःशुल्क चिकित्सा शिविर में सलाल गांव के करीब 205 रोगियों की जांच की गई तथा उन्हें आवश्यतानुसार मुफ्त दवाइयां भी उपलब्ध कराई गई. इसी के साथ-साथ चिकित्सा शिविर में आए हुए नागरिकों व रोगियों को इस कोरोना काल में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहयोगी दवाओं का भी वितरण किया गया.

दवा का किया गया वितरण

वर्तमान में कोरोना के प्रकोप के कारण जन यातायात प्रभावित हुआ है, जिससे लोगों को अस्पताल जाने में भी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. इन दिनों लोगो में कोरोना का भी भय बना रहता है जिसके कारण वह अस्पताल नहीं जा पा रहे है. सलाल पावर स्टेशन नें यह ध्यान में रखकर गांव वालों को उनके घर पर ही उनको मेडिकल जांच की सुविधा उपलब्ध करवाने का फैसला लिया. यह भी बताना सार्थक होगा कि सलाल पावर स्टेशन में स्थित अस्पताल में न केवल पावर स्टेशन के कार्मिकों का इलाज होता है बल्कि आसपास के क्षेत्रों में रहने वाले व्यक्तियों को भी निः शुल्क परामर्श एवं दवाईयां दी जाती हैं ताकि सभी लोग रोग मुक्त रह सकें.

जम्मू और कश्मीर में कोरोना का असर

फिलहाल जम्मू और कश्मीर में अबतक कोरोना के 12 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं. अभीतक यहां 12757 संक्रमित मामले देखे गए हैं. जिनमें से 6558 संक्रमित लोग इलाज के बाद पूरी तरह ठीक होकर घर जा चुके हैं. वहीं वर्तमान में जम्मू और कश्मीर में 5968 संक्रमित लोगों का इलाज चल रहा है. यहां कोरोना संक्रमण से अबतक 231 लोगों की मौत हुई है.

देश में कोरोना का आंकड़ा दस लाख पार

देशभर में लगातार बढ़ रहा कोरोना का संक्रमण 10,03,832 के पार पहुंच चुका है. वर्तमान में देश में 3,42,473 से ज्यादा संक्रमित लोग अपना इलाज करवा रहे हैं. वहीं 6,35,756 लाख से ज्यादा संक्रमित लोगों का इलाज सफल रहा है. देश में अबतक 25 हजार से ज्यादा लोग कोरोना संक्रमण की वजह से अपनी जान गंवा चुके हैं.