कोरोना को मात दे चुके लोगों को स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी ये खास सलाह, जानें क्या कहा है

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना वायरस को मात दे चुके लोगों के लिए अपने नए प्रबंधन प्रोटोकॉल में उन्हें योगासन, प्राणायाम करने ,ध्यान लगाने और च्यवनप्राश खाने जैसे कुछ सुझाव दिए हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना वायरस संक्रमण से उबर चुके सभी लोगों की बाद की देखभाल और अच्छे प्रदर्शन के लिए एक समग्र रुख अपनाते हुए कहा कि ऐसे लोगों को मास्क लगाने, हाथ धोते रहने, सामाजिक दूरी बनाने जैसे सभी नियमों का पालन करते रहना चाहिए.

यह प्रोटोकॉल उन लोगों के प्रबंधन के लिए एक नज़रिया पेश करता है जो कोरोना के संक्रमण से उबर चुके हैं और जिन्हें घरों में देखभाल की जरूरत है. प्रोटोकॉल में लोगों से पर्याप्त मात्रा में गरम पानी पीने, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए योग्य आयुष चिकित्सक से आयुष दवाइयां लेने और अगर उनकी सेहत इजाजत देती हो तो घर का काम करने की सलाह दी गई है.

इसमें सेहत को ध्यान में रखते हुए या जितना डॉक्टरों ने कहा हो उसके अनुसार रोजाना योगासन, प्राणायाम करने और ध्यान लगाने, श्वास तंत्र को मजबूत करने वाला एक्सरसाइज़ करने और रोजना सुबह या शाम को टहलने की सलाह दी गई है.

प्रोटोकॉल में तापमान, ब्लड प्रेशर, रक्त शर्करा (विशेषकर यदि मधुमेह में हो तो), पल्स ऑक्सीमेट्री आदि (यदि चिकित्सकीय सलाह दी गई हो) पर घर पर नजर रखने की सलाह दी गई है.

साथ ही अपने इस प्रोटोकॉल में स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि सुबह के वक्त गरम दूध या पानी के साथ च्यवनप्राश का सेवन जरूर करना चाहिए.

देश में कोरोना का आंकड़ा कहां तक पहुंचा?
आपको बता दें कि देश में पिछले 24 घंटों में 94,372 नए मामले सामने आए हैं. इससे पहले 11 सितंबर को रिकॉर्ड 97,570 संक्रमण के मामले दर्ज हुए थे. वहीं 24 घंटे में 1114 लोगों की जान चली गई है. देश में दो सितंबर से लगातार हर दिन एक हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो रही है. अच्छी खबर ये है कि 24 घंटे में 78,399 मरीज ठीक भी हुए हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार, देश में अब कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 47 लाख 54 हजार हो गई है. इनमें से 78,586 लोगों की मौत हो चुकी है. एक्टिव केस की संख्या 9 लाख 73 हजार हो गई और 37 लाख लोग ठीक हो चुके हैं. संक्रमण के सक्रिय मामलों की संख्या की तुलना में स्वस्थ हुए लोगों की संख्या करीब चार गुना अधिक है.