सबसे ज्यादा हार्ट अटैक होते हैं साल की शुरुआत में, कारण जानकर चौंक जाएंगे आप…

नए साल का आगाज हमेशा हर्षोल्लास के साथ किया जाता है. लेकिन इसी खुशनुमा समय की एक चौंकाने वाली बात भी है. हार्ट अटैक के सबसे ज्यादा मामले जनवरी के पहले हफ्ते में ही सामने आते हैं. देश के तमाम जाने माने दिल के डॉक्टर भी मानते हैं कि सबसे ज्यादा दिल के दौरे दिसंबर के आखिरी और जनवरी के पहले हफ्ते में होते हैं. दुनिया के तमाम बड़े शोधों में भी साबित हुआ है कि जनवरी का पहला हफ्ता दिल के लिए बेहद खतरनाक होता है.

क्या कहते हैं डॉक्टर?
फोर्टिस एस्कॉर्ट्स अस्पताल के डायरेक्टर और मशहूर कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. अशोक सेठ का कहना है कि जनवरी के पहले हफ्ते में हार्ट अटैक बढ़ने की ठंड ही है. इसका साइंटिफिक वजह ये है कि इस मौसम में आर्टरीज सिकुड़ जाते हैं. इससे दर्द शुरू हो जाता है और खून भी जमने लगता है. आर्टरीज में कलॉटिंग यानी खून के थक्के बनने की वजह से हार्ट अटैक हो जाता है. हार्ट स्पेशलिस्ट डॉ. अपर्णा जसवाल के मुताबिक दिसंबर और जनवरी में ठंड में त्वचा सिकुड़ने लगती है. ऐसे ही खून की नसें भी सिकुड़ती हैं और हार्मोनल बदलाव भी होते हैं. इनके कारण ब्लड प्लेटलेट्स भी चिपकने लगते हैं. ऐसी अवस्था में जिनको हार्ट की तकलीफ़ नहीं है उनको भी ये होने की संभावना रहती है.
डॉ. अशोक सेठ और डॉ. अपर्णा जसवाल (फोर्टिस एस्कॉर्ट्स अस्पताल)

अंतराष्ट्रीय रिसर्च ने साबित किया – सर्दी में होते हैं सबसे ज्यादा हार्ट अटैक
स्वीडन में एक संस्था ने 1998 से लेकर 2013 तक 2.80 लाख मरीज़ों पर एक सर्वे किया. लगभग साल भर के आंकड़ो के आधार में शोध में बताया गया है कि क्रिसमस और नए साल के दौरान हार्ट अटैक के सबसे ज्यादा मामले सामने आए. ये शोध स्वीडन की ज़रुर है लेकिन भारतीयों पर भी फिट बैठ रही है. दिल्ली समेत देश के अस्पतालों में इस दौरान दिल के मरीज़ों की संख्या बढ़ रही हैं.