संघर्ष विराम उल्लंघन पर भारत सख्त, पाकिस्तानी उच्चायोग के प्रभारी को किया तलब

भारत ने पाकिस्तानी उच्चायोग के प्रभारी को को तलब कर पाकिस्तानी बलों द्वारा संघर्षविराम का उल्लंघन करने पर कड़ा ऐतराज जताया। जम्मू कश्मीर की कृष्णा घाटी में पाकिस्तान की बिलर किसी उकसावे के की गयी गोलाबारी से एक लड़के समेत तीन निर्दोष नागरिकों की शुक्रवार (17 जुलाई) को मौत हो गई। 

विदेश मंत्रालय ने कहा कि शुक्रवार रात को पाकिस्तान के इस कृत्य की भारत ने कड़ी भर्त्सना की। मंत्रालय ने कहा कि मारे गए लोग एक ही परिवार से थे। उसने बताया कि बिना उकसावे की गोलीबारी में एक बच्चा घायल हुआ है।

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ”पाकिस्तानी बलों द्वारा निर्दोष नागरिकों को जानबूझकर निशाना बनाने की भारत कड़े शब्दों में भर्त्सना करता है। इस वर्ष पाकिस्तान के बलों की ओर से बिना उकसावे के संघर्ष विराम का 2711 से अधिक बार उल्लंघन करने के कारण 21 भारतीयों की मौत हो गई तथा 94 घायल हो गए।”

बयान में कहा गया, ”सीमापार से आतंकवादियों की घुसपैठ में पाकिस्तान द्वारा लगातार की जा रही मदद तथा पाकिस्तानी बलों द्वारा आतंकवादियों को घुसपैठ कराने के लिए गोलीबारी की आड़ देने का भी भारत ने विरोध जताया है।”

विदेश मंत्रालय के मुताबिक पाकिस्तान के उच्चायोग के प्रभारी से कहा गया कि नियंत्रण रेखा तथा अंतरराष्ट्रीय सीमा पर शांति कायम रखने के लिए पाकिस्तान 2003 के संघर्षविराम समझौते का पालन करे