कोरोना से निपटने के लिए अपने दोस्तों के साथ खड़ा भारत, पीएम बोले- हमें मिलकर लड़ना होगा

कोरोना वायरस से जूझ रहे दुनियाभर के देशों में तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है. ऐसे में कोविड-19 के इलाज में हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा को कारगर समाधान माना जा रहा है. जिसके बाद तमाम देशों से इस दवा की मांग भारत से की जा रही है. इजराइल और ब्राजील ने भी इस दवा की मांग भारत से की थी. जिसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इजराइल और ब्राजील से कहा कि भारत कोरोना वायरस वैश्विक महामारी से निपटने में अपने मित्रों की हरसंभव मदद करने के लिए तैयार है.

इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो ने मलेरिया रोधी दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन और इसे बनाने में उपयोग होने वाली सामग्री के निर्यात को मंजूरी देने के लिए भारत को धन्यवाद दिया है. मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो, आपका शुक्रिया, इस चुनौतीपूर्ण समय में भारत और ब्राजील की साझेदारी पहले से मजबूत हुई है.’’

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत इस वैश्विक महामारी के खिलाफ मानवता के संघर्ष में योगदान देने के लिए प्रतिबद्ध है. बोलसोनारो ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन बनाने के लिए आवश्यक सामग्री भिजवाने को अनुमति देने के लिए मोदी का धन्यवाद करते हुए ट्वीट किया था जिसके जवाब में मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘हमें इस वैश्विक महामारी के खिलाफ मिलकर लड़ना होगा, भारत अपने मित्रों की हरसंभव मदद के लिए तैयार है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं इजराइल के लोगों के कल्याण और उनके अच्छे स्वास्थ्य की कामना करता हूं.’’

इससे पहले, नेतन्याहू ने ट्वीट कर कहा था, ‘‘इजराइल को क्लोरोक्वीन भेजने के लिए शुक्रिया, मेरे प्रिय मित्र नरेंद्र मोदी. इजराइल के सभी नागरिक आपका धन्यवाद अदा करते हैं.’’