राहुल का बड़ा आरोप, कहा- PM मोदी के पास चीन से निपटने की कोई रुपरेखा नहीं, सिर्फ अपनी इमेज बिल्डिंग में लगे हैं

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सासंद राहुल गांधी इन दिनों लगातार मोदी सरकार पर हमलावर हैं. राहुल ने आज ट्रूथ विद राहुल गांधी सीरीज का तीसरा वीडियो रिलीज किया. राहुल ने कहा कि पीएम के पास चीन से निपटने की कोई तय रुपरेखा नहीं है इसलिए चीन हमारी सीमा में घुसा. राहुल ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी को पूरा फोकस अपनी इमेज बनाने पर है. सारी संस्थाएं इसी काम में जुटी हुई हैं, सिर्फ एक व्यक्ति की छवि चमकाना राष्ट्रीय छवि का विकल्प नहीं हो सकता.

राहुल ने कहा- अगर आ निपटने के लिए मजबूत स्थिति में हैं, तभी आप काम कर पाएंगे
चीन से निपटने के बारे में बताते हुए राहुल गांधी ने कहा कि अगर आप उनसे निपटने के लिए मजबूत स्थिति में हैं, तभी आप काम कर पाएंगे. उनसे वो हासिल कर पाएंगे, जो आपको चाहिए और यह सचमुच में किया जा सकता है, लेकिन अगर उन्होंने (चीन) ने कमजोरी पकड़ ली, तो फिर ये गड़बड़ है.

बिना किसी दृष्टिकोण के चीन से निपट नहीं सकते
राहुल गांधी ने कहा कि आप बिना किसी दृष्टिकोण के चीन से निपट नहीं सकते हैं. मैं केवल राष्ट्रीय दृष्टिकोण की बात नहीं कर रहा हूं, मेरा मतलब अंतरराष्ट्रीय दृष्टिकोण से है. बेल्ट एंड रोड, यह धरती की प्रकृति को बदलने का प्रयास है. भारत को वैश्विक दृष्टिकोण अपनाना ही होगा. भारत को अब विचार बनाना होगा, जो वैश्विक विचार हो.

राहुल बोले- हमें अपना तरीका, अपनी सोच बदलनी होगी
राहुल गांधी ने कहा कि बड़े स्तर पर सोचने से ही भारत की रक्षा की जा सकती है. चीन के साथ सीमा विवाद है और इसका हमें समाधान करना है, लेकिन हमें अपना तरीका बदलना होगा. हमें अपनी सोच बदलनी होगी. हम दो राहे पर खड़े हैं. एक तरफ हम जाएंगे तो कामयाबी मिलेगी और दूसरी तरफ जाएंगे तो अप्रासंगिक हो जाएंगे.

बड़े अवसर को गंवाया जा रहा है, क्योंकि हम दूर की नहीं सोच रहे
राहुल गांधी ने कहा कि मैं चिंतित हूं, क्योंकि एक बड़े अवसर को गंवाया जा रहा है, क्योंकि हम दूर की नहीं सोच रहे हैं और हम आंतरिक संतुलन को बिगाड़ रहे हैं. हम आपस में लड़ रहे हैं. राजनीति में देख लीजिए, पूरे दिन भारतीय आपस में लड़ रहे हैं. प्रधानमंत्री मेरे प्रतिद्वंदी हैं और मेरी जिम्मेदारी है कि मैं उनसे सवाल पूछूं.

राहुल ने कहा- मैं आपको दावे से कह सकता हूं कि दृष्टिकोण नहीं है
राहुल गांधी ने कहा कि मेरी जिम्मेदारी है कि प्रधानमंत्री से सवाल पूछूं और दबाव डालूं, ताकि वो काम करें. मैं आपको दावे से कह सकता हूं कि दृष्टिकोण नहीं है, इसलिए ही चीन हमारी जमीन पर घुसा हुआ है.

17 जुलाई को आया था पहला वीडियो

17 जुलाई को इसी सीरीज के पहले वीडियो में उन्होंने कहा था कि चीन ने सीमा पर अतिक्रमण के लिए यही समय इसलिए चुना क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीतियों ने भारत को कमजोर कर दिया है. राहुल गांधी ने  लद्दाख में चीन के साथ हुए संघर्ष पर नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला था.राहुल गांधी ने इसके पहले जो वीडियो जारी किया था उसमें उन्होंने समझाया था कि चीन ने हमारी भूमि में घुसपैठ करने के लिए इस समय का चयन क्यों किया.

20 जुलाई को राहुल गांधी ने जारी किया था दूसरा वीडियो, मोदी सरकार की नीतियों पर उठाए थे सवाल 

राहुल गांधी ने अपनी सीरीज के तहत दूसरी वीडियो जो 20 जुलाई को जारी की उसमें भी मोदी सरकार की नीतियों पर सवाल उठाए. इससे पहले राहुल गांधी ने अपने वीडियो सीरीज की दूसरी कड़ी में कहा था कि प्रधानमंत्री ने सत्ता में आने के लिए एक फर्जी स्ट्रांगमैन की छवि तैयार की. यह उनकी सबसे बड़ी ताकत थी और अब यह भारत की सबसे बड़ी कमजोरी है. राहुल गांधी ने कहा था कि यह सिर्फ सीमा का कोई मुद्दा नहीं है.

राहुल गांधी ने कहा था, ‘मुझे चिंता इस बात की है कि चीनी आज हमारे क्षेत्र में बैठे हुए हैं. चीनी अपनी रणनीति के बारे में सोचे बिना कुछ भी नहीं करते हैं. अपने दिमाग में उन्होंने एक दुनिया का नक्शा बनाया है और वे उस दुनिया को आकार देने की कोशिश कर रहे हैं. जो वे कर रहे हैं वही इसका पैमाना है, ग्वादर क्या है और वन बेल्ट एंड वन रोड क्या है. यह इस धरती का पुनर्गठन है. इसलिए यदि आप चीनियों के बारे में सोच रहे हैं तो आपको ये बातें समझनी होंगी.’