जम्मू-कश्मीर: जेल विभाग की अनोखी पहल, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कैदी करेंगे परिजनों से बात

जम्मू कश्मीर की जेलो में बंद क़ैदियों में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए प्रदेश जेल विभाग ने अनोखी पहल की है. जेल विभाग ने जेल में बंद अपने क़ादियो को उनके घर वालो से बात करवाने के लिए वीडियो कांफ्रेंस की सुविधा शुरू की है.

देश भर की तरह जम्मू कश्मीर में भी कोरोना तेज़ी से अपने पांव पसार रहा है और ऐसे में अब जम्मू जेल विभाग ने इस महामारी को क़ैदियों और अपने स्टाफ में फैलने से रोकने के लिए वीडियो कांफ्रेंस की सेवा शुरू की है. इस सेवा से जेल में बंद क़ैदियों की मुलाकात उनके घरवालों से करवाई जा रही है.

संक्रमण को रोकने में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की यह सुविधा काफी मददगार साबित हो सकती है

फिलहाल यह सेवा जम्मू की जेलों में बंद कश्मीरी क़ैदियों और कश्मीर की जेलों में बंद जम्मू के क़ैदियों के लिए शुरू की गई है. जम्मू की जिला जेल के सुपरिन्टेन्डेन्ट मिर्ज़ा सलीम बैग के मुताबिक कोरोना के चलते वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग की यह सुविधा काफी मददगार साबित हो रही है.

उनके मुताबिक इस सेवा के शुरू होने से ना केवल जेल में बाहर से आने वाले लोगो पर पूरी तरह से रोक लग गई है. जिससे जेल में कोरोना के फैलने के खतरा कम हो गया है बल्कि इस सुविधा से कोरोना के चलते बंद की गई है. यातायात सेवा के बावजूद जेल के क़ैदी अपने परिजनों से बात कर रहे है.

तय समय के लिए कैदी परिजनों से कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कर सकेंगे बात

जेल सुपरिन्टेन्डेन्ट के मुताबिक इस सुविधा के शुरू होने से लोगो का समय और पैसा बच जाता है. वहीँ, इस सुविधा से क़ैदियों से बात करने के लिए उनके परिजनों को अपने घर के नज़दीकी जेल में संपर्क करना होता है. जिसके बाद उन्हें एक तय समय पर अपने घरवालो से वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग से जोड़ दिया जाता है.