जम्मू-कश्मीर: शिक्षा विभाग ने निजी स्कूलों से कहा- नियमित रूप से नहीं लगाएं बच्चों की ऑनलाइन क्लास

प्रदेश के स्कूली शिक्षा विभाग ने निजी स्कूलों के अधिकारियों से कहा है कि लॉकडाउन के दौरान वह नियमित रूप से ऑनलाइन कक्षाओं का संचालन ना करें, क्योंकि इससे बच्चों के स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है. विभाग ने इसको लेकर एक एडवाइजरी भी जारी की है.

जम्मू में स्कूली शिक्षा विभाग की निदेशक अनुराधा गुप्ता ने कहा कि उन्होंने सभी प्राइवेट स्कूलों को यह हिदायत दी है कि वह नियमित रूप से और लंबे समय के लिए बच्चों की ऑनलाइन कक्षाएं नहीं लें. कारण बताते हुए उन्होंने कहा कि इसका सीधा असर उनके स्वास्थ्य पर पड़ सकता है. उन्होंने सभी प्राइवेट स्कूलों को अपने हिसाब की सुविधाओं की उपलब्धता के अनुसार वैकल्पिक तरीकों के माध्यम से अपने छात्रों को शिक्षा प्रदान करने के लिए इंतजाम करने को कहा.
अनुराधा गुप्ता के मुताबिक बच्चों के अभिभावकों को भी ऑनलाइन और दूरस्थ शिक्षा के साथ महत्वपूर्ण पहलुओं को ध्यान में रखते हुए इस एडवाइजरी को जारी करने की जरूरत महसूस की गई थी. प्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग के मुताबिक स्कूलों को यह भी निर्देश दिए गए हैं कि वह पाठ्यक्रम को जल्दी खत्म करने पर ध्यान केंद्रित ना करें. विभाग के मुताबिक शिक्षा संबंधित बोर्डों के परामर्श से शैक्षिक कैलेंडर के संशोधन के बारे में उपयुक्त निर्णय पर बाद में विचार किया जा सकता है.

स्कूल शिक्षा निदेशक के मुताबिक बच्चों को उनकी शंकाओं को लिखने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए और उन्हें संबंधित शिक्षकों को WhatsApp के ग्रुप में पेस्ट किया जाना चाहिए. ऑनलाइन कक्षाओं की अवधि माता-पिता की सलाह के मद्देनजर पारंपरिक रूप से तय की जानी चाहिए.