जम्मू में त्योहारों के मद्देनजर भीड़ नियंत्रण में जुटा रेलवे

आने वाले दिनों में त्योहारों को देखते हुए रेलवे प्रबंधन ने यात्रियों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने की रणनीति बना ली है। नवंबर की शुरुआत से मध्य तक विभिन्न रेल गाड़ियों में यात्रियों की भीड़ को देखते हुए रेलवे बोर्ड ने विभिन्न रेल डिवीजन को जरूरी हिदायतें जारी की हैं। वरिष्ठ अधिकारियों को भीड़ के समय स्वयं रेलवे स्टेशनों में तैनात रह कर भीड़ को नियंत्रित करने के निर्देश दिए गए है।

बोर्ड द्वारा जारी हिदायत के अनुसार रेलवे स्टेशन के सभी प्रवेश द्वारों में किसी भी यात्री को विश्राम या अधिक समय तक ठहरने नहीं दिया जाए। रेलवे के सभी प्रवेश तथा बाहर निकलने के द्वारों पर टिकट चे¨कग के स्टाफ को तैनात किया जाए, ताकि बिना टिकट कोई भी रेलवे स्टेशन परिसर में प्रवेश न कर पाए। विभिन्न रेलगाड़ियों के चलने के बारे में समय से घोषणा की जाए। रेलगाड़ियों के चलने के बारे में इन घोषणाओं को निरंतर किया जाना चाहिए, ताकि यात्रियों को रेलगाड़ियों के चलने के बारे में जानकारी आसानी से मिल पाए। रेलगाड़ियों के बारे में घोषणा करने के अलावा यात्रियों को फुट ओवर ब्रिज पर चलने के बारे में अहम जानकारियां दी जाए, जिनमें ब्रिज पर धैर्यपूर्वक चढ़ें, फुट ओवर ब्रिज पर चलते रहें, वहां रुके न, किसी प्रकार की अफवाह पर विश्वास न करें, प्लेटफार्म पर रुकने वाली रेलगाड़ियों के कोच के बारे में यात्रियों को पर्याप्त जानकारी दी जाए। विभिन्न रेल गाड़ियों में आने वाले पार्सल को पर्याप्त ढंग से रखा जाए। स्टेशन परिसर में सामान बेचने वाले वेंडरों को अपने स्टॉल से बाहर निकाल कर सामान न बेचने दिया जाए। ऐसा करने वाले वेंडरों पर कार्रवाई की जाए। रेलगाड़ी के चलने से कुछ समय पूर्व उसके तय प्लेटफार्म को बिना किसी ठोस कारण बदला न जाए। प्लेटफार्म के खाली होने के बाद ही वहां पर आने वाले रेल गाड़ी को रोका जाए। भीड़भाड़ वाली रेलगाड़ियों को अंतिम प्लेटफार्म से चलाया जाए। स्टेशन पर तैनात स्टेशन सुप¨रटेंडेंट को पुलिस तथा दमकल विभाग के फोन नंबरों के बारे में जानकारी होना अनिवार्य है, ताकि जरूरत पड़ने पर इन नंबरों का प्रयोग किया जा सके। रेलगाड़ियों की शं¨टग के दौरान कर्मचारियों को विशेष ध्यान देने की जरूरत है। फुट ओवर ब्रिज पर तैनात होंगे आरपीएफ कर्मी

त्योहारों के मद्देनजर आरपीएफ अधिकारियों को यह निर्देश दिए गए हैं कि रेलवे स्टेशनों के प्रवेश तथा बाहर निकलने वाले द्वार पर जवानों को तैनात किया जाए। भीड़ के समय फुट ओवर ब्रिज पर आरपीएफ के जवानों को तैनात किया जाए, जो यात्रियों को सुरक्षित ढंग से चलने के बारे में जागरूक करें। किसी को भी फुट ओवर ब्रिज पर बैठने की इजाजत नहीं दी जाए। इसके अलावा किसी को भी रेलवे पटरी को पार न करने दिया जाए। आग जल्दी पकड़ने वाले उत्पादों को रेलवे स्टेशन परिसर में आने की इजाजत न दी जाए। सीसीटीवी कैमरों की मदद से भीड़ पर नजर रखी जाए। रेलवे परिसर में लगे सभी एस्केलेटर चलने की हालत में होने चाहिए। आपात सेवा के लिए एक डॉक्टर रहे तैनात

रेलवे बोर्ड ने जम्मू समेत देश के विभिन्न बड़े रेलवे स्टेशनों में एक नवंबर से 14 नवंबर तक एक डॉक्टर को तैनात रखने की हिदायत दी है, ताकि यदि आपात स्थित उत्पन्न होती है तो उससे निपटा जाए। डॉक्टर की मौजूदगी के अलावा यह भी सुनिश्चित किया जाए कि फस्ट एड बॉक्स भी रखा जाए।