जम्मू में बारिश से खेतों में नमी, किसान कर सकेंगे गेहूं की बुआई

रबी फसलों गेहूं आदि की बुआई की तैयारी कर रहे किसानों को बारिश से फायदा पहुंचा है। खेतों में नमी होने से वे अब आसानी से बुआई कर सकेंगे। उधर, धान की कटी फसलों को इससे नुकसान होने की आशंका है। हालांकि कितना नुकसान हुआ, इसका आकलन रविवार सुबह ही चल पाएगा। बारिश अगर देर रात तक जारी रही तो नुकसान और ज्यादा बढ़ सकता है। अरनिया क्षेत्र के किसान महेश ¨सह का कहना है कि बारिश की अभी जरूरत नहीं थी। फसल पकने की ओर बढ़ रही है और कुछ क्षेत्रों में बासमती पक भी आई है। अगर बारिश लंबे समय तक ¨खच गई तो ज्यादा नुकसान होगा।

बहरहाल शनिवार शाम को हुई बारिश से सब्जियों की फसल को भी फायदा होगा। कंडी क्षेत्रों में गेहूं की बिजाई की उम्मीदें बन गई है। यहां की जमीन सूखी थी और बिजाई के लिए किसानों को बारिश का इंतजार था। अब बिजाई हो पाएगी। किसानों का कहना है कि इस बारिश से जमीन में उचित नमी बन जाएगी। इसलिए गेहूं की अगेती बिजाई अगले कुछ ही दिनों में आरंभ की जा सकेगी। इसके अलावा हरा चारा के लिए यह बारिश बेहतर साबित होगी। बरसीम की खेती को बल मिलेगा तो वहीं कंडी क्षेत्र के चारागाह में घास पनप जाएगी।