हुर्रियत पर J&K गवर्नर सत्यपाल मलिक बोले- पाक से पूछे बिना टॉइलट तक नहीं जाते, उनसे बातचीत नहीं

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने अलगाववादी हुर्रियत नेताओं को लेकर कड़ी टिप्पणी की है। मलिक ने कहा कि हुर्रियत नेता तो बिना पाकिस्तान से पूछे टॉइलट तक नहीं जाते हैं। राज्यपाल ने दो टूक कहा कि जब तक वे पाकिस्तान को अलग नहीं रखेंगे, उनके साथ कोई बातचीत नहीं होगी।
बता दें कि राज्यपाल सत्यपाल मलिक राज्य में जल्द विधानसभा चुनाव के पक्ष में हैं। मलिक ने कहा है कि जून में पीडीपी-बीजेपी की सरकार गिरने के बाद उन्हें नहीं लगता कि वर्तमान हालात में राज्य में एक लोकप्रिय सरकार बन सकती है।
‘किसी भी धांधली का हिस्सा नहीं बनूंगा…’
दरसअल, जम्मू-कश्मीर में पिछले दरवाजे से सरकार गठन की अटकलें लग रही थीं। हालांकि पिछले दिनों एक इंटरव्यू में मलिक ने कहा कि वह ऐसी किसी भी कवायद का हिस्सा नहीं हैं। जब उनसे कहा गया कि वर्तमान परिदृश्य में क्या एक लोकप्रिय सरकार बन सकती है, तो उन्होंने जवाब दिया, ‘मैं ऐसा नहीं सोचता। कम से कम मैं किसी भी धांधली का हिस्सा नहीं बनूंगा। मुझे प्रधानमंत्री या फिर किसी अन्य केंद्रीय नेता से इस संबंध में कोई संकेत नहीं मिले हैं।’

उधर, गुरुवार को मीडिया से बातचीत में मलिक ने कहा, ‘मैंने किसी पक्षकार से बातचीत नहीं की है। मैंने हाल में विभिन्न पार्टियों के प्रतिनिधियों से मुलाकात की थी। जहां तक हुर्रियत की बात है, तो वे बिना पाकिस्तान से पूछे टॉइलट भी नहीं जाते हैं। जबतक वे पाकिस्तान को अलग नहीं रखेंगे उनके साथ बातचीत नहीं होगी।’

‘मेरी इच्छा है जल्द चुनाव हो’
बता दें कि जम्मू-कश्मीर विधानसभा का कार्यकाल दिसंबर 2020 में खत्म होना है। जब गवर्नर से पूछा गया कि क्या राज्य में जल्द चुनाव हो सकते हैं, तो उन्होंने कहा कि उनकी इच्छा है कि राज्य में जल्द से जल्द चुनाव हों। उन्होंने कहा, ‘इस बारे में फैसला केंद्र और चुनाव आयोग को लेना है। मेरा काम दोहरी जिम्मेदारी (राज्यपाल और प्रशासक) को निभाना है, जिसे मैं लगातार जारी रखूंगा। मेरी इच्छा है कि चुनाव जल्द से जल्द हों।’