भाजपा ने गगन भगत को जारी किया अवमानना नोटिस, छवि खराब करने का आरोप

निष्कासित किए गए पूर्व विधायक डॉ. गगन भगत को प्रदेश भाजपा ने अवमानना नोटिस जारी किया है। एडवोकेट परिमोक्ष सेठ के माध्यम से प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना और महासचिव संगठन अशोक कौल ने डॉ. गगन भगत को कानूनी नोटिस जारी करते हुए सार्वजनिक छवि को खराब करने के मकसद से आपत्तिजनक और बेबुनियाद आरोप लगाने का आरोप लगाया है।

प्रदेश भाजपा ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि 12 दिसंबर को निष्कासित पूर्व विधायक डॉ. गगन भगत ने पत्रकार वार्ता कर बेबुनियाद आरोप लगाए हैं। भगत को अनैतिक व्यवहार के चलते राज्य भाजपा की अनुशासन समिति की सिफारिश से तीन महीने के लिए पार्टी से निलंबित किया गया था।

इसके बावजूद व्यवहार में सुधार लाने के बजाए वह पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल रहे। इसके बाद भाजपा ने डॉ. गगन भगत को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित कर दिया।

आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग करते हुए डॉ. गगन भगत ने प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना और महासचिव संगठन अशोक कौल पर उनकी सार्वजनिक प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के लिए बेबुनियाद आरोप लगाए।

ऐसे में कानूनी नोटिस जारी कर डॉ. गगन भगत को एक सप्ताह में सार्वजनिक तौर पर माफी मांगने को कहा है। ऐसा नहीं होने पर कोर्ट में उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

सुंदरबनी के राजेश पराशर को भी नोटिस
सोशल मीडिया में रवींद्र रैना के खिलाफ आपत्तिजनक भाषा और बयानबाजी का प्रयोग करने के कारण भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने वकील के माध्यम से सुंदरबनी निवासी राजेश कुमार पराशर को भी कानूनी नोटिस जारी किया है। रैना ने अमर उजाला को बताया कि पूर्व विधायक डॉ. गगन भगत और राजेश पराशर को कानूनी नोटिस जारी किया गया है।