जम्मू-कश्मीर में किश्तवाड़ के अस्पताल में आतंकी हमला, एक की मौत; एक घायल

जम्मू-कश्मीर में किश्तवाड़ के जिला अस्पताल में मंगलवार को आतंकी हमले में पुलिस के पीएसओ की मौत हो गई, जबकि एक अन्य घायल हो गया। घायल को नजदीकी अस्पताल में दाखिल कराया गया है। सर्च ऑपरेशन जारी है।

जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ में जिला अस्पताल में कार्यरत चिकित्सा सहायक चंद्रकांत शर्मा आतंकी हमले में घायल हो गए, उनके पीएसओ की गोली मारकर हत्या कर दी गई। शर्मा आरएसएस से भी जुड़े हुए हैं। उनकी हालत नाजुक है। बताया जाता है कि चंद्र कांत हॉस्पिटल में मेडिकल असिस्टेंट हैं। इस घटना के बाद किश्तवाड़ में कर्फ्यू लगा दिया गया है। इस घटना के बाद तनाव है। सूत्रों के अनुसार, ये आतंकी हमला था। हालांकि अभी इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है।

आरएसएस कार्यकर्ता मेडिकल असिस्टेंट चंद्रकांत परिहार बंधुओं के भी काफी करीबी थे। आरएसएस और भाजपा से जुड़े होने के कारण उन्हें 1996 में भी मारने की धमकी दी गई थी, जिसके बाद पुलिस प्रशासन ने उनकी सुरक्षा को यकीनी बनाने के लिए उनके साथ दो एसपीओ तैनात कर रखे थे।परिहार बंधुओं की हत्या के बाद चंद्रकांत की सुरक्षा को और पुख्ता करते हुए उनके साथ दो अतिरिक्त पीएसओ की तैनाती कर दी गई।

हमले के वक्त जब चंद्रकांत ओपीडी में बैठे हुए थे, तभी एक अज्ञात व्यक्ति ने अपनी आटोमेटिक गन से उन पर अंधाधुंध गोलियां बरसाना शुरू कर दी। इस हमले में उनके साथ खड़े एक पीएसओ की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि वह स्वयं इसमें गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। उनकी गंभीर हालत को देखते हुए जिला अस्पताल प्रशासन उन्हें हेलीकाप्टर की मदद से जम्मू राजकीय मेडिकल कालेज लाने की व्यवस्था कर रहा है।

हमले की सूचना मिलते ही पुलिस व अर्द्धसैनिक बलों ने अस्पताल को चारों ओर से घेर लिया है। उन्हें शक है कि हमलावर अभी भी अस्पताल में ही मौजूद है। उसकी तलाश की जा रही है। किश्तवाड़ जिला में कर्फ्यू भी लगा दिया गया है।

गौरतलब है कि पिछले वर्ष नवंबर में किश्तवाड़ में आतंकियों ने परिहार बंधुओं की भी गोलियों से भूनकर हत्या कर दी थी। बताया जाता है कि आरएसएस लीडर चंद्रकांत के परिहार बंधुओं के साथ अच्छे संबंध थे।