हिमाचल, कश्‍मीर और उत्‍तराखंड में भारी बर्फबारी, दिल्‍ली-NCR में ओले गिरने की वजह आई सामने

उत्‍तर भारत में बदले मौसम के रुख के कारण पहाड़ी राज्‍यों में भारी बर्फबारी हो रही है. इससे जनजीवन अस्‍त व्‍यस्‍त हो रहा है. भारी बर्फबारी के कारण लोग ऊंचे स्‍थानों पर समस्‍याओं से जूझ रहे हैं. जम्‍मू-कश्‍मीर के कुलगाम में जवाहर सुरंग के पास गुरुवार को हिमस्‍खलन के बाद 10 पुलिसकर्मी चौकी पर फंस गए हैं. इन्‍हें बचाने के प्रयास लगातार जारी हैं. वहीं गुरुवार को दिल्‍ली-एनसीआर में बारिश के साथ ही कई स्‍थानों पर ओले भी गिरे. दिल्‍ली-एनसीआर में हुई ओलावृष्टि के कारणों का भी अब पता चल गया है. जम्‍मू और कश्‍मीर के कई हिस्‍सों में भारी बर्फबारी हो रही है.

दिल्‍ली-NCR में इसलिए पड़ थे ओले
गुरुवार को दिल्‍ली-एनसीआर में कई स्‍थानों पर हुई ओलावृष्टि के पीछे की वजह भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने बताई है. उसके अनुसार बंगाल की खाड़ी और अरब सागर की तरफ से तेज हवाएं उत्तर भारत की ओर आईं.

तेज हवाओं के उत्तरी मैदानी इलाकों से गुजरने के कारण निचले आसमान में बड़ी मात्रा में बादलों का निर्माण हुआ. मौसम विभाग के अनुसार ठंडी हवाओं, कम तापमान और पश्चिमी विक्षोभ के कारण ही यहां बारिश हुई और ओले भी गिरे.

उत्तराखंड में बर्फबारी, ठिठुरन बढ़ी
उत्तराखंड के उच्च हिमालयी क्षेत्रों जैसे बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री, हेमकुंड साहिब, नंदादेवी राष्ट्रीय पार्क, औली, मुनस्यारी सहित चमोली, उत्तरकाशी, पिथौरागढ़ और रूद्रप्रयाग जिलों के अंदरूनी हिस्सों में ताजा बर्फबारी हुई है. वहीं कम ऊंचाई वाले क्षेत्रों और मैदानी इलाकों में बारिश हुई. इसस कंपकंपी और ठिठुरन बढ़ गई है. इस कारण चमोली, रुद्रप्रयाग सहित कई जिलों में गुरुवार को स्कूल-कॉलेज भी बंद रखे गए.

बढ़ गईं समस्‍याएं
उत्‍तराखंड के राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र से मिली जानकारी के अनुसार, सोनप्रयाग-केदारनाथ पैदल मार्ग बर्फबारी के कारण अवरुद्ध हो गया है. उसे चालू करने की कोशिश की जा रही है. बर्फबारी के कारण केदारनाथ में बिजली आपूर्ति भी बाधित है जिसे बहाल करने का प्रयास किया जा रहा है. उत्तरकाशी में भटवाडी तहसील के हर्षिल और आसपास के क्षेत्र में भी बिजली आपूर्ति ठप होने की सूचना है.

24 घंटे के लिए चेतावनी जारी
स्थानीय मौसम केंद्र ने अगले 24 घंटों में उत्तराखंड के अधिकांश क्षेत्रों में हल्की से मध्यम बारिश और कहीं—कहीं ओलावृष्टि की आशंका तथा पर्वतीय क्षेत्रों में कुछ स्थानों खासतौर से 2,000 मीटर से अधिक उंचाई वाले क्षेत्रों में भारी से बहुत भारी बर्फबारी तथा वर्षा की आशंका व्यक्त करते हुए चेतावनी जारी की है. इसके मद्देनजर प्रशासन को सजग रहने की सलाह दी गई है.

हिमाचल प्रदेश में भी भारी बर्फबारी और बारिश
हिमाचल प्रदेश में अधिक और मध्यम ऊंचाई वाले पहाड़ों पर भारी बर्फबारी हुई है. वहीं कम ऊंचाई वाले पहाड़ी क्षेत्रों और मैदानी इलाकों में मूसलाधार बारिश हुई है. मौसम विज्ञान विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि राजधानी शिमला, चंबा, कुफरी, नारकंड़ा, डलहौजी, मनाली, सोलन, मंडी, लाहौल-स्पीति और किन्नौर में गुरुवार शाम से शुक्रवार सुबह तक भारी बर्फबारी हुई.

कई जिलों में स्‍कूल-कॉलेज बंद
खराब मौसम से सामान्य जीवन प्रभावित हुआ, अनेक सड़कें बंद हो गई हैं. राजधानी शिमला तथा लाहौल-स्पीति सहित राज्य में अनेक स्थानों की बिजली आपूर्ति ठप हो गई है. लाहौल-स्पीति में पिछले दो दिन से बर्फबारी हो रही है. यहां हिमस्खलन भी हुआ है. स्थानीय प्रशासन ने बताया कि लाहौल-स्पीति और कुल्लू जिलों के सभी शिक्षण संस्थानों को शुक्रवार को बंद रखने के आदेश दिए गए हैं.

आज भी होगी बारिश और बर्फबारी
मौसम विभाग ने ऊंचाई वाले क्षेत्रों और मध्यम ऊंचाई वाले पहाड़ी इलाकों में और बर्फबारी तथा कम ऊंचाई वाले पहाड़ी क्षेत्रों और मैदानी इलाकों में शुक्रवार को भी बारिश होने की आशंका जताई है.