J&K: अखनूर और कुपवाड़ा में सीमा पर घुसपैठ की फिराक में थे आतंकी, सुरक्षाबलों ने तीन को किया ढेर

 

जम्मू-कश्मीर में मंगलवार शाम सुरक्षाबलों ने सीमा पर दो अलग-अलग स्थानों से घुसपैठ कर रहे तीन आतंकियों को मार गिराया। इसमें दो आतंकी उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के केरन सेक्टर में घुसपैठ के दौरान मारे गए हैं। वहीं एक आतंकी भारी गोलाबारूद और हथियारों के साथ जम्मू के अखनूर पल्लन वाला सेक्टर में मार गिराया गया है।

अखनूर के पलनवाला सेक्टर में मंगलवार शाम सुरक्षाबालों ने सीमा पर घुसपैठ कर रहे एक आतंकी को मार गिराया। आतंकी ने सुरक्षाबलों पर भारी फायरिंग की जिसकी जवाबी कार्रवाई की गई। इस कार्रवाई में सुरक्षाबलों ने पाकिस्तानी आतंकी को मार गिराया।

पुलिस सूत्रों की माने तो आतंकी के पास से भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद हुए हैं। मारे गए आतंकी की पहचान अभी नहीं हो सकी है। वहीं उसके पास से एक एके-47 राइफल, पिस्तौल सहित भारी मात्रा में गोला-बारूद बरामद हुआ है। सूत्रों की माने तो उसके साथ कई अन्य आतंकी भी घुसपैठ की फिराक में थे। सुरक्षाबलों का सर्च ऑपरेशन सीमा पर जारी है।

सीमा पार 160 आतंकी घुसपैठ की फिराक में
सीमा पार से आतंकियों की घुसपैठ सिर्फ तब रुकेगी, जब पाकिस्तान अपनी मंशा और नीति में बदलाव लाएगा, लेकिन पाकिस्तान में इस पर कोई बात नहीं हो रही। वहां आतंकवाद फल-फूल रहा है। अब भी सीमा पर 160 आतंकी घुसपैठ के लिए बैठे हुए हैं। यह सब कहना है कि सेना की 16 कोर के जीओसी लेफ्टिनेंट जनरल परमजीत सिंह का।

परमजीत सिंह को 16 कोर का जीओसी बनाया गया है। वह 2016 में पीओके में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक करने वाली टीम का अहम हिस्सा रहे। इसको अंजाम देने वाली टीम में परमजीत सिंह थिंक टैंक में शामिल रहे। वह जम्मू कश्मीर लद्दाख के कई क्षेत्रों में अपनी सेवाएं दे चुके हैं। परमजीत का कहना है कि 140 से 160 आतंकी कई जगहों पर बैठे हुए हैं, जिनको पाकिस्तान भारत भेजना चाहता है। पाकिस्तान की आतंकवाद को लेकर कोई नीति नहीं बदली है। पाकिस्तान सेना और उनकी खुफिया एजेंसी आईएसआई आतंकियों की घुसपैठ की प्लानिंग करते हैं और आतंकियों को भेजते हैं।

सीमा पर सीजफायर के सवाल पर परमजीत ने कहा कि हमारे जवानों के लिए एलओसी पर कोई सीजफायर नहीं। जब पाकिस्तानी सेना हम पर फायर करती है, तो हम उसका कड़ा जवाब देते हैं। सीमा पार से होने वाली घुसपैठ से निपटने के लिए हमारी तैयारी पर इसका कोई असर नहीं पड़ता।