J&K: पांचवीं के छात्र को अज्ञात लोगों ने किया अगवा

औद्योगिक क्षेत्र बड़ी ब्राह्मणा के दस्साल निवासी पांचवीं के छात्र को अज्ञात लोगों ने उसके घर के बाहर से अगवा कर लिया। उसके पिता को फोन कर बदले में एक करोड़ रुपये की फिरौती मांगी गई है। आखिरी बार अपहरणकर्ताओं ने पठानकोट से फोन किया। छात्र अनिरुद्ध शर्मा आर्मी पब्लिक स्कूल कालूचक्क में पढ़ता है। क्षेत्र में अपहरण और फिरौती की खबर से पुलिस और जिला प्रशासन के हाथपांव फूल गए हैं। आननफानन में पुलिस ने विशेष टीम का गठन कर दिया है, जिसमें एसएचओ बड़ी ब्राह्मणा, एसपी, एसएसपी आदि पुलिस अधिकारी शामिल हैं। आधी रात तक बड़ी ब्राह्मणा पुलिस थाने में आलाधिकारियों की बैठक चल रही थी।

यह वारदात सोमवार दोपहर तीन बजे की है। छात्र के पिता रिटायर्ड कैप्टन जोगिद्र पाल शर्मा ने बताया कि उनका बेटा स्कूल से छुट्टी के बाद अपने घर पहुंचा। खाना खाने के बाद वह खेलने के लिए घर के गेट से जैसे ही बाहर निकला तो पहले से खड़ी लाल रंग की वैन में कुछ लोगों ने अनिरुद्ध को जबरन गाड़ी में बैठा लिया और ले गए। इसके दस मिनट बाद ही अपहरणकर्ताओं ने जोगिद्र के मोबाइल पर फोन कर उनके बेटे के अपहरण की बात बताई और एक करोड़ रुपये की फिरौती मांगी। इसके तुरंत बाद जोगिंद्र ने पुलिस अधिकारी को घटना की जानकारी दी। पुलिस ने जिस नंबर से फोन कॉल आई थी उसका पता लगाया तो उक्त सिम कार्ड एक सैन्य कर्मी के नाम पर निकला। इसे फर्जी पते पर लिया गया था। घटना के बाद जम्मू से लखनपुर और बनिहाल तक नाकों को सतर्क कर दिया। जांच में पता चला कि कॉल बड़ी ब्राह्मणा से ही की गई थी। शाम सात बजे फिर से फोन आया और फिरौती की रकम को एक करोड़ और फिर पचास लाख कर दिया। यह कॉल पठानकोट से की गई थी। फिलहाल उक्त नंबर नंबर बंद है। इस मामले में बड़ी ब्राह्मणा पुलिस साइबर सेल की मदद भी ले रही है। अपहरणकर्ताओं का विरोध किया था छात्र ने

छात्र अनिरुद्ध ने अपहरणकर्ताओं का विरोध किया था। बताया जाता कि पास में मौजूद एक महिला ने छात्र को गाड़ी में बैठाते देखा था। उसने बताया कि छात्र ने अपहरणकर्ताओं का विरोध किया था, लेकिन वह जबरन उसे बैठा ले गए।

कॉल रिकार्ड के आधार पर जांच जारी

एसडीपीओ बड़ी ब्राह्मणा सुनील केसर का कहना है कि अपहरणकर्ताओं द्वारा जिन सिमकार्ड का प्रयोग किया गया है, उसके आधार पर पुलिस जांच को आगे बढ़ा रही है। इसके अलावा घटना स्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की मदद से सुबूत जुटाए जा रहे हैं। पुलिस टीमों को विभिन्न स्थानों पर रवाना किया गया है।