जम्मू-कश्मीर के तीन कॉलेजों में एमबीबीएस की 85 सीटें बढ़ीं

मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआइ) ने जम्मू कश्मीर में आर्थिक रूप से कमजोर विद्यार्थियों के लिए एमबीबीएस की 85 सीटें बढ़ाने को मंजूरी दे दी। एमसीआइ ने यह फैसला शुक्रवार को किया। राज्य के सात मेडिकल कॉलेजों ने इस वर्ग में सीटें बढ़ाने के लिए आवेदन किया था लेकिन एमसीआइ ने तीन ही कालेजों को सीटें बढ़ाने की मंजूरी दी। आदेश के तहत मेडिकल कॉलेज जम्मू और मेडिकल कॉलेज श्रीनगर में एमबीबीएस की तीस-तीस सीटें बढ़ी हें जबकि शेर-ए-कश्मीर इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल सांइसेस श्रीनगर में 25 सीटें बढ़ाने को अनुमति दी गई है। इस समय मेडिकल कॉलेज जम्मू में एमबीबीएस की 150 सीटें हैं। अब तीस सीटें बढ़ाने से इस कॉलेज में एमबीबीएस की सीटों की क्षमता 180 हो जाएगी। इसी तरह श्रीनगर मेडिकल कालेज में भी वर्तमान 150 सीटों की क्षमता 180 हो जाएगी। शेर-ए-कश्मीर इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल सांइसेस श्रीनगर में एमबीबीएस की वर्तमान में 100 सीटें हैं लेकिन अब यह संख्या बढ़कर 125 हो जाएगी। यह सभी सीटें इसी सत्र से बढ़ाने को मंजूरी दी गई है। इसे मिलाकर अब राज्य में एमबीबीएस की कुल 985 सीटें हो गई हैं। इसी सत्र से राज्य में खुल रहे चार नए मेडिकल कालेजों राजौरी, कठुआ, बारामुला और अनतंनाग ने भी इस वर्ग में सीटें बढ़ाने के लिए आवेदन किया था लेकिन मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया ने नए कालेजों में सीटें बढ़ाने को मंजूरी नहीं दी।