जम्मू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर ने भगत सिंह को बताया आतंकी, सोशल मीडिया पर लेक्चर का वीडियो वायरल

जम्मू विश्वविद्यालय में राजनीति विभाग के प्रोफेसर ताजुद्दीन के लेक्चर का एक अंश वायरल होने के बाद यूनिवर्सिटी के विद्यार्थियों में काफी रोष है। वायरल वीडियो के मुताबिक प्रोफेसर पर भगत सिंह को आतंकी बताने का आरोप है।

यह वीडियो वीरवार को तब बनाया गया, जब वह क्लास में लेक्चर दे रहे थे। कुछ विद्यार्थियों ने वीसी डॉ. मनोज धर के पास भी इस संदर्भ में शिकायत दर्ज कराई है। शुक्रवार इस मुद्दे पर गुस्साए विद्यार्थी विश्वविद्यालय बंद कराएंगे।

छात्रों का कहना था कि प्रोफेसर के इस कथन से राष्ट्रवादी छात्रों की भावनाओं को ठेस पहुंची है। उन्होंने वीसी को की गई शिकायत में प्रोफेसर के खिलाफ निर्धारित समय के भीतर कड़ी कार्रवाई किए जाने की मांग की।

लॉ डिपार्टमेंट के छात्र और शिकायतकर्ता छात्रों की अगुवाई करने वाले साकेत सिंह राठौर ने कहा कि भगत सिंह ने आजादी की लड़ाई में योगदान दिया है, लेकिन प्रोफेसर उन्हें आजादी से पूर्व आतंक फैलाने वाला करार दे रहे हैं। यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

लेनिन के भाई को पढ़ाते आया भगत सिंह का जिक्र : प्रो. ताजुद्दीन

प्रो. ताजुद्दीन ने कहा कि कक्षा में लेनिन पर लेक्चर दे रहे थे, उस संदर्भ में उनकी जीवनी, उस समय की परिस्थिति उसके भाई का जिक्र आया, जिन्हें आतंकी प्रचार का अगुवा बताते हुए फांसी दे दी गई थी।

‘एक्सट्रीम वायलेंस’ का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि यही आतंक की परिभाषा है। मौजूदा स्टेट अपने खिलाफ विद्रोह करने वालों को आतंकी कहता है। इसी संदर्भ में भगत सिंह का भी जिक्र आया।

हम भारतवासी के लिए वह क्रांतिकारी थे, लेकिन उस समय के शासक के लिए वह आतंकी थे। छात्रों को सही संदर्भ में ‘गुड टेरेरिज्म’ और ‘बेड टेरेरिज्म’ को समझना चाहिए। फिर भी किसी की भावना आहत हुई तो हमें खेद है। लेक्चर को विषय की तरह समझना चाहिए। उस पर राजनीति ठीक नहीं है।