पुलवामा हमले के विरोध में जम्मू में उबाल

पुलवामा के गोरीपोरा में सीआरपीएफ के काफिले पर फिदायीन हमले के बाद जम्मू के लोगों में गुस्सा फूट पड़ा। हमले विरोध में लोग अपने घरों से सड़कों पर उतर आए। शहर भर में जगह-जगह प्रदर्शनों का दौर शुरू हो गया।

वीरवार शाम को शुरू हुए प्रदर्शन देर रात तक शहर भर में जारी रहे। प्रदर्शनों का सबसे ज्यादा असर शहर के मुख्य बस अड्डे, ज्यूल चौक, तवी पुल और बिक्रम चौक इलाके में देखने को मिला। यहां काफी संख्या में लोग इकट्ठा हो गए। उन्होंने सड़कें बंद कर पाकिस्तान के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। प्रदर्शन कर रहे लोगों का कहना था कि पाकिस्तान के इशारे पर ही आतंकी कश्मीर में खून की होली खेल रहे हैं। अब समय आ गया है कि पाकिस्तान को एक बार में ही सबक सिखा दिया जाए। उधर, तवी पुल को भी प्रदर्शन कर रहे लोगों ने पूरी तरह से बंद कर दिया। गाड़ियों की आवाजाही बंद करवा दी। प्रदर्शन को देखते हुए पुलिस भी मौके पर पहुंची और लोगों को शांत करवा पुल को खुलवाने का प्रयास किया लेकिन लोग पुल को खोलने के लिए तैयार न थे। देर रात पुलिस पुल को खुलवा वहां फंसी गाड़ियों को निकालने का प्रयास करती रही। जम्मू में लोगों के उबाल को देखते हुए पुलिस ने शहर के संवेदनशील इलाकों में चौकसी कड़ी कर दी ताकि शरारती तत्व स्थिति को बिगाड़ने के लिए इन इलाकों में किसी वारदात को अंजाम ने दे पाएं। इसके अलावा शहर के कई इलाकों में भी लोग तिरंगे को लेकर घरों के बाहर आ गए और उन्होंने भारत माता की जय के नारे लगाते हुए शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान लोगों ने पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे भी लगाए।

कांग्रेस कार्यकताओं ने फूंका पाक का झंडा

गंग्याल में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मुख्य मार्ग पर प्रदर्शन किया। उन्होंने नारेबाजी करते हुए पाकिस्तान का पुतला जलाया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने की मांग करते हुए कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भाजपा को भी आड़े हाथ लिया। उन्होंने कहा कि बड़े भाषण देने के बजाय जवानों की सुरक्षा और आतंकवादियों को मुंहतोड़ जवाब दिया जाना चाहिए। सतवारी-कुंजवानी मार्ग पर गंग्याल में मुख्य मार्ग पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सतीश शर्मा के नेतृत्व में यह प्रदर्शन हुआ। इस दौरान सुमन प्रीत ¨सह,प्रीतम ¨सह, बिट्टू कुमार युद्धवीर ¨सह अभी कुमार, अर्जुन कुमार,गौतम शर्मा,शमशेर ¨सह,बलदेव ¨सह आदि शामिल थे। -शिव सेना डोगरा फ्रंट का प्रदर्शन

सीआरपीएफ पर हुए फिदायीन हमले के विरोध में डोगरा फ्रंट एवं शिव सेना ने प्रदर्शन किया। सीआरपीएफ के शहीदों को श्रद्धाजंलि दी। आतंकवाद के खिलाफ सख्ती से निपटने की मांग की। प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे अशोक गुप्ता ने शुक्रवार को जम्मू बंद का भी आह्वान किया।

क्रांति दल ने शोक जताया

जम्मू : सीआरपीएफ पर हुए हमले की क्रांति दल ने कड़ी आलोचना की। शोक सभा का आयोजन कर हमले में शहीद जवानों के परिजनों के प्रति हार्दिक संवेदना प्रकट की। उन्होंने शहीदों की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की ।शर्मा ने कहा कि इस तरह के हमले की जितनी ¨नदा की जाए कम है। उन्होंने कहा कि आतंकी घटा में संलिप्त लोगों को माफ नहीं किया जाना चाहिए। जल्द से जल्द ऐसे लोगों को मौत के घाट उतारा जाना चाहिए। शोकसभा में तरुण गुप्ता, पंकज शर्मा, विजय कुमार, विजय शर्मा, सुनील शर्मा, करनैल चंद, परवीन और सुरेंद्र, सनी कुमार आदि शामिल थे। सैनिक कॉलोनी व्यापार मंडल भी बंद रखेगा दुकानें

सैनिक कॉलोनी व्यापार संगठन ने दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के लिथपोरा इलाके में हुए आत्मघाती हमले की भ‌र्त्सना की है। उन्होंने कहा कि यह एक कायरतापूर्ण और बुजदिल कार्य है। संगठन के अध्यक्ष राकेश चौधरी ने कहा है कि शहीदों की कुर्बानियां बेकार नहीं जाएंगी। भारतीय सेना जब तक उनका सफाया नहीं कर देती, तब तक दम नहीं लेगी। संगठन प्रधान ने शुक्रवार को कालोनी की सभी दुकानें और प्रतिष्ठान बंद रखने का आह्वान किया।