बनिहाल कार धमाका: आतंकी बोला, सीआरपीएफ काफिले के पास जाकर बटन दबाने का मिला था निर्देश

जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर बनिहाल के पास पुलवामा दोहराने की साजिश करने वाले आतंकी को पकड़ लिया गया है। जिसने यह मान लिया है कि वह पुलवामा जैसा हमला करना चाहता था। वह हिजबुल मुजाहिदीन का आतंकी है और कश्मीर के शोपियां का रहने वाला है। आतंकी को आठ दिन की पुलिस रिमांड पर लिया गया है। इससे और भी कई महत्वपूर्ण जानकारियां आगे की पूछताछ में सामने आएंगी। 30 मार्च को एक सेंटरों कार से सीआरपीएफ के काफिले को निशाना बनाने की कोशिश की गई थी।
डीजीपी दिलबाग सिंह ने सोमवार को पत्रकार वार्ता में इसकी जानकारी दी। आतंकी का नाम ओवेस अहमद अमीन है। सिंह ने बताया कि 30 मार्च को आतंकी की कार सीआरपीएफ के काफिले से टकराई थी। इस कार में दो सिलेंडर, जिलेटिन की पचास से अधिक स्टिक, यूरिया, पेट्रोल, तीन आईईडी थी।

आतंकी ने इस कार में रखे बिस्फोटक को ट्रिगर से बलास्ट करना था। लेकिन ट्रिगर करने का सिस्टम सही नहीं बैठा। आतंकी इसकी कोशिश जरूर की। जिसके बाद एक छोटा धमाका हुआ। इसमें आतंकी को कुछ चोट भी आई। लेकिन जब पता चल गया कि अन्य बिस्फोट नहीं हुआ है, तो यह वहां से भाग गया। इसके बाद यह वहां ही किसी पास के एक जंगल में छुप गया। यहां पर यह 31 मार्च शाम तक छुपा रहा।

नाके पर पकड़ लिया गया
आतंकी जब कार से भागा तो इसका कुछ सामान भी वहां बिखर गया। इसने एक खास किस्म की कमीज पहनी थी। जो घटनास्थल के पास ही मिली। भागने के बाद पुलिस और सेना ने मिलकर पूरा रूट खंगाला और यह तमाम चीजें बरामद की। लिंक से लिंक जोड़े और आतंकी एक स्केच तैयार कर लिया गया। सभी नाकों को सील कर लिया गया। रामबन में यह नाके पर तब पकड़ लिया गया। जब यह कश्मीर की तरफ जा रहे एक टिप्पर में लिफ्ट लेकर भागा था। टिप्पर को पूछताछ के लिए रोका और इसे देखकर ही पता चल गया कि यह वहीं है। जब जोर देकर पूछताछ की गई तो इसने कबूल किया कि उसी ने धमाका किया।