जम्मू : कश्मीरी पंडित सरपंच अजय कुमार पंडिता का हुआ अंतिम संस्कार, कांग्रेस ने प्रदेश प्रशासन को बताया मौत का जिम्मेदार

सोमवार को दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग ज़िले में आतंकियों द्वारा मारे गए कश्मीरी पंडित सरपंच अजय कुमार पंडिता का अंतिम संस्कार जम्मू में मंगलवार तड़के किया गया. ऐसा पिछले 17 साल में पहली बार हुआ है जब कश्मीर घाटी में किसी कश्मीरी पंडित को निशाना बनाया गया हो.

मंगलवार सुबह करीब 8 बजे अजय कुमार पंडिता का अंतिम संस्कार जम्मू के शक्ति नगर शमशान घाट पर किया गया. इस हत्या के बाद सोमवार देर शाम ही अजय पंडिता का पार्थिव शरीर सड़क मार्ग द्वारा जम्मू लाया गया था. जम्मू में उनके अंतिम संस्कार के लिए उनके परिवार के सदस्यों समेत कुछ करीबी रिश्तेदार ही शामिल हुए.

अजय पंडिता के पिता द्वारिका नाथ पंडिता के मुताबिक उनका बेटा शेर था और आतंकियों ने उनके पीठ पर गोली मारी है. उन्होंने इस हत्या के पीछे पाकिस्तान को ज़िम्मेदार ठहराते हुए आतंकियों की तलाश कर उन्हें फांसी पर चढ़ाने की मांग की है. उन्होंने कहा कि वो अपनी इच्छा से कश्मीर में रहते थे और उन्हें कभी कोई परेशानी नहीं हुई.

वहीं, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गुलाम अहमद मीर ने इस हत्या पर गहरा दुःख जताते हुए प्रदेश प्रशासन को इसका ज़िम्मेदार ठहराया. उन्होंने दावा किया कि अजय ने अपने पर हुए हमले की आशंका करीब दो महीने पहले जताई थी लेकिन प्रदेश सरकार ने उन्हें सुरक्षा नहीं दी. उन्होंने कहा कि अगर प्रशासन ने हर पांच सरपंच की सुरक्षा का इंतज़ाम किया होता तो आज शायद यह हमला नहीं होता.