जम्मू-कश्मीर के टुकड़े कर उसे यूटी बनाकर केंद्र ने लोगों से धोखा किया: अंबिका सोनी

केंद्र सरकार जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाकर उसे केंद्र शासित प्रदेश बनाकर अपनी पीठ ठोक रही है परंतु जमीनी हकीकत यह है कि केंद्र ने एेसा कर यहां की जनता को ठगा है। जम्मू-कश्मीर से राज्य का दर्जा वापिस लेकर उसे दो टुकड़ों में बांट केंद्र शासित प्रदेश बना दिया। इतना बड़ा कदम उठाने से पहले भाजपा सरकार ने यहां के लोगों को विश्वास तक में नहीं लिया। क्या यह कदम उठाकर भी यहां के लोगों से किए वायदों को पूरा किया गया है। जम्मू-कश्मीर की जनता केंद्र से अपने इन सवालों का जवाब पूछेगी।

यह बात अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव और पार्टी की जम्मू-कश्मीर मामलों की प्रभारी अंबिका सोनी ने पत्रकारों से बात करते हुए कही। उन्होंने कहा कि केंद्र में बैठी भाजपा गठबंधन सरकार की दिशाहीन नीतियों ने देश में बेरोजगारी बढ़ाने और आर्थिक संकट को बढ़ावा दिया है। कांग्रेस ने इसके खिलाफ देश व्यापी आंदोलन की शुरूआत कर दी है। जमीनी हकीकत यह है कि सरकार की नीतियां किसान विरोधी हैं। आर्थिक मंदी से निपटने में भी केंद्र नाकाम रहा है। हालत यह है कि देश में बेरोजगारी दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है। आंदोलन काे कामयाब बनाने के लिए अन्य विपक्षी दलों को भी साथ लिया जाएगा।

अंबिका सोनी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में यह आंदोलन जिला स्तर पर चलेगा। आज से आंदोलन की शुरूआत हो चुकी है और यह 15 नवंबर तक चलेगा।जम्मू-कश्मीर के मौजूदा हालत का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र यहां सब सामान्य बता रही है। अगर ऐसा है तो फिर विपक्षी दलों के नेताओं को अभी तक हिरासत में क्यों रखा गया है, उन्हें रिहा क्यों नहीं किया जाता। अंबिका सोनी से जब यह पूछा गया कि क्या जम्मू-कश्मीर को वापस राज्य का दर्जा मिलना चाहिए तो इसके जवाब में उन्होंने कहा कि यहां से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद इसे दो टुकड़ों में बांट यूटी बना देना ही अजीब फैसला है। राज्य का दर्जा छीनकर केंद्र ने यहां के लोगों के साथ धोखा किया है।