J&K: BJP का तंज- कश्मीरियों के नेता नहीं हैं फारूक-उमर और महबूबा, होते तो रिहाई के लिए सड़कों पर आते लोग

जम्मू-कश्मीर में बीजेपी ने पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती पर तंज कसा है. बीजेपी ने कहा है कि ये लोग कश्मीरियों के नेता नहीं है. अगर ये लोग कश्मीरियों के नेता होते तो इनकी रिहाई के लिए लोग सड़कों पर उतरते, लेकिन एक भी शख्स ने इन सबके लिए एक शब्द नहीं बोला. घाटी से आर्टिकल 370 हटने के बाद से तीनों नेता हिरासत में हैं.

जम्मू में एबीपी न्यूज़ से बात करते हुए पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अविनाश राय खन्ना ने कहा, ‘’राज्य से धारा 370 हटने के बाद से जेल में बंद पूर्व मुख्यमंत्रियों डॉ फारूक़ अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और मेहबूबा मुफ़्ती अगर नेता होते तो उनकी गिरफ्तारी पर जनता से कोई प्रतिक्रिया तो आती.’’ उन्होंने कहा कि एक भी आम कश्मीरी ने उनके लिए सहानभूति का एक शब्द नहीं बोला.

अविनाश राय ने कहा, ‘’इन सभी नेताओं ने 70 साल तक राज्य को लूटा है और जिन लोगों के लिए इन्होंने काम किया वो इनका अपना परिवार था. इनके परिवार के 10 लोगों ने दिखावे के लिए सिर्फ एक दिन प्रदर्शन किया.’’ अविनाश राय ने आगे कहा, ‘’कश्मीर में लोग अक्टूबर 24 को ब्लॉक डेवलपमेंट कमिटी के चुनावों के लिए बढ़ चढ़ के हिस्सा ले रहे हैं और अब तक इन चुनावो में 520 लोगों ने चुनाव लड़ने की इच्छा जताई है जो एक बड़ी बात है.’’

सेब व्यापारियों पर आतंकी हमलो को आतंकी हताशा करार देते हुए उन्होंने कहा, ‘’आतंकी कश्मीर में अमन बहाली से खुश नहीं हैं. वह शांति में खलल डालने की कोशिश कर रहे है.’’ उन्होंने कहा, ‘’सरकार पूरी तरह से मुस्तैद है और आतंकियों के मंसूबो को कामयाब नहीं होने दिया जायेगा.’’

अविनाश ने दावा किया कि जिन आतंकियों ने सेब के व्यापारियों को निशाना बनाया है, उन लोगों की पहचान हो गयी है और जल्द ही उन सभी को पकड़ा जायेगा गा या ढेर किया जायेगा. गौरतलब है कि 24 अक्टूबर को जम्मू कश्मीर में ब्लॉक डेवलपमेंट समिति के चुनाव होने है और इन चुनावो में बीजेपी को कश्मीर में कमल खिलने की उम्मीद है. इन चुनावों का लगभग सभी विपक्षी दलों ने बहिष्कार किया है.