जम्मू-कश्मीर: कांग्रेस ने किया फारूक अब्दुल्ला की रिहाई का स्वागत, कहा- देर आए दुरुस्त आए

जम्मू कश्मीर प्रशासन ने प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ फ़ारूक़ अब्दुल्ला पर से पब्लिक सेफ्टी एक्ट हटा कर उन्हें जल्द रिहा करने के आदेश दे दे दिए है. वहीं, फारूक अब्दुल्ला की इस रिहाई के आदेश का कांग्रेस ने स्वागत किया है.

जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटने के बाद से नज़रबंद पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला के खिलाफ लगा पीएसए प्रशासन ने हटा लिया है.  करीब सात महीने बाद अब उनकी रिहाई होगी. फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला समेत नेशनल कॉन्फ्रेंस के कई नेताओं को आर्टिकल 370 हटने से एक दिन पहले चार अगस्त 2019 की रात को नजरबंद कर दिया गया था.

प्रशासन के इस कदम का स्वागत करते हुए जम्मू कश्मीर प्रदेश कांग्रेस समिति के प्रवक्ता रविंदर शर्मा ने प्रशासन के इस फैसले को देरी से आया लेकिन दुरुस्त कदम बताया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की हमेशा से यह सोंच रही है कि मुख्यधारा के नेताओ की गिरफ्तारी अवैध है और यह लोकतांत्रिक व्यवस्था की भावना के खिलाफ है.

कांग्रेस प्रवक्ता ने उम्मीद जताई है कि प्रशासन जल्द ही ऐसी ही समझ दिखते हुए कई महीनो से जेलों में बंद मुख्यधारा के बाकि नेताओ को भी जल्द ही रिहा करेगा.