वैष्णो देवी की यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं की हो रही थर्मल स्क्रीनिंग, Corona के खतरे के बावजूद बड़ी तादाद में पहुच रहे लोग

कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे से निपटने के लिए श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने माता के दर्शन के लिए पहुंच रहे श्रद्धालुओं की थर्मल स्क्रीनिंग के साथ-साथ यात्रा मार्ग पर फॉगिंग, स्प्रे, स्टरलाइजेशन और सैनिटेशन का व्यापक अभियान छेड़ रखा है. इससे पहले रविवार शाम श्राइन बोर्ड ने विदेशी और एनआरआई श्रद्धालुओं के अगले 28 दिन तक यात्रा करने पर रोक लगा दी थी.

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप से निपटने के लिए श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने अपने प्रयासों को बढ़ा दिया है. श्राइन बोर्ड ने यात्रा के लिए पहुंच रहे सभी यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग के लिए कटरा रेलवे स्टेशन, कटरा हेलिपैड, दर्शनी देवड़ी और कटरा से भवन तक के नए यात्रा मार्ग पर शिविर लगाए हैं. इन शिविरों में श्राइन बोर्ड ने पैरामेडिकल स्टाफ और डॉक्टरों की तैनाती कर दी है और हर यात्री की स्क्रीनिंग की जा रही है.

इसके साथ ही श्राइन बोर्ड ने कटरा हेलिपैड, रेलवे स्टेशन और कटरा से भवन तक के ट्रैक पर फॉगिंग, स्प्रे, स्टरलाइजेशन और सैनिटेशन का अभियान भी चला रखा है. यात्रा मार्ग पर जिन स्थानों पर यात्री रुकते और ठहरते हैं उन जगहों पर स्टरलाइजेशन का व्यापक अभियान चलाया जा रहा है.
इसके साथ ही श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने कटरा से भवन तक चलाये जा रहे पब्लिक एड्रेस सिस्टम पर भी कोरोना वायरस से संबंधित जानकारी और इससे निपटने के लिए ज़रूरी कदमों की जानकारी के लिए ऑडियो मैसेज चलाना भी शुरू कर दिया है.

वायरस पर श्रद्धालुओं की आस्था पड़ रही भारी
देश भर में जहां एक तरफ कोरोना महामारी बनती जा रही है, तो वहीं दूसरी तरफ माता वैष्णो देवी के भक्तो की आस्था इस वायरस पर भारी पड़ती जा रही है. श्री माता वैष्णो देवी के दर्शन के लिए आ रहे श्रद्धालुओं में किसी तरह की कोई कमी दर्ज नहीं की गई है.

आंकड़ों पर नज़र डालें तो पिछले कुछ दिनों से माता वैष्णो देवी की यात्रा करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या करीब 25000 है, जिनकी अगर पिछले कुछ सालों से तुलना करें तो यह आंकड़े यात्रा में किसी तरह की कोई कमी नहीं दिखा रहे हैं. दिल्ली से कटरा दर्शन के लिए पहुंची अपराजिता की मानें तो श्राइन बोर्ड द्वारा यात्रियों की सुरक्षा और कोरोना वायरस से बचने के लिए उठाए गए कदम पर्याप्त हैं. उनके मुताबिक वो अपने परिवार के साथ दर्शन के लिए आई हैं और कोरोना वायरस से निपटने के लिए सभी ज़रूरी सामान, जैसे सैनिटाइज़र और मास्क साथ लाए हैं.
अपराजिता बताती हैं कि कोरोना वायरस से बचाव परहेज़ में है और वो और उनका परिवार पूरे परहेज के साथ दर्शन करेंगा. वहीं, जयपुर से आए अर्णव ने बताया कि माता वैष्णो देवी सब को बचाने वाली हैं तो फिर कोरोना वायरस से डर किस बात का. उनके मुताबिक देशभर में इस वायरस को लेकर सतर्कता अभियान चलाए जा रहे हैं और जिस स्तर की जांच और एहतियात श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड यात्रियों को लेकर दिखा रहा है, उसमें डर जैसी कोई बात नहीं.

कोरोना वायरस से निपटने के लिए श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने विदेशी और देशी भक्तों के लिए एडवाइजरी जारी की है. बोर्ड ने एहतियतान विदेशी श्रद्धालुओं को अगले 28 दिन तक यात्रा पर न आने की हिदायत दी है. श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की तरफ से जारी एडवाइजरी में कहा गया है कि सभी एनआरआई और विदेशी श्रद्धालुओं को अगले 28 दिन तक माता की यात्रा पर न आने की हिदायत दी गई है. इसके साथ ही देशी यात्रियों, जिन में खासी, बुखार और सांस फूलने जैसे लक्षण हैं, उन्हें भी अपनी यात्रा को फिलहाल टालने की हिदायत दी गई है.