किश्तवाड़ में प्रदर्शनकारियों ने सरकारी इमारत में तोड़फोड़ की

जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ जिले में भीड़ ने एक सरकारी इमारत में तोड़फोड़ की, सरकारी गाड़ियों को क्षतिग्रस्त कर दिया और राज्यपाल सत्यपाल मलिक का पुतला दहन किया। ये लोग हाल में चार लोगों की हत्या का विरोध कर रहे थे। स्थानीय धार्मिक समूह सनातन धर्म सभा ने हालिया कत्लों और अपराधियों को पकड़ने में कथित विफलता के खिलाफ चार चिनार में स्थित अपने मुख्यालय से सांप्रदायिक तौर पर संवेदनशील इलाके में स्थित उपायुक्त कार्यालय तक शांतिपूर्ण मार्च का आह्वान किया था। गौरतलब है कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) नेता चंद्रकांत शर्मा और उनके सुरक्षा गार्ड की नौ अप्रैल को जिला अस्पताल में एक आतंकवादी ने हत्या कर दी थी जबकि भाजपा के राज्य सचिव अनिल परिहार और उनके भाई अजीत परिहार का बीते साल एक नवंबर को कत्ल कर दिया गया था। अधिकारियों ने बताया कि हत्याओं के खिलाफ नारेबाजी करते हुए महिलाओं समेत सैकड़ों लोगों ने पुलिस की सुरक्षा में अपना मार्च शुरू किया। उन्होंने बताया कि उपायुक्त कार्यालय परिसर में पहुंचने पर कुछ प्रदर्शनकारी उग्र हो गए और राज्यपाल के पुतले का दहन किया तथा कई सरकारी गाड़ियों में तोड़फोड़ की। अधिकारियों ने बताया कि भीड़ ने बहुमंजिला इमारत के मुख्य द्वार को तोड़ दिया और कई कमरों में तोड़फोड़ की तथा कुछ रिकॉर्ड को क्षतिग्रस्त कर दिया। उन्होंने बताया कि बाद में, प्रदर्शनकारी खुद ही तितर-बितर हो गए। उपायुक्त अंग्रेज सिंह राणा ने पीटीआई भाषा को बताया, ‘‘ हमने गुंडागर्दी का कड़ा संज्ञान लिया है और इसमें शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।’’ उन्होंने बताया कि घटना के बाबत प्राथमिकी दर्ज की गई है।