जम्मू-कश्मीर को जबरदस्ती बदलने का प्रयास न करे भाजपा, 36 मंत्रियों के दौरे फ्लॉप शो: मीर

जम्मू-कश्मीर कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष जीए मीर ने जम्मू-कश्मीर में पिछले सात दिन में 36 केंद्रीय मंत्रियों के दौरे को फ्लॉप शो करार दिया है। लोगों को इन मंत्रियों से कई उम्मीदें थीं, लेकिन कोई बड़ी घोषणाएं न होने से यह दौरा सिर्फ मंत्रियों के पिकनिक तक सीमित रहा है। कहा कि इस दौरे से पहले मंत्रियों ने कोई होमवर्क नहीं किया था। प्रदेश के लोगों को सिर्फ निराशा मिली है। विधानसभा चुनाव से पहले सरकार को जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक माहौल बहाल करना चाहिए, ताकि विपक्ष चुनाव में पूरी भागीदारी कर सके।
मीर ने कहा कि केंद्रीय मंत्रियों के दौरों के चलते तमाम सरकारी अमले के व्यस्त रहने से लोगों को तकलीफ पहुंची है। मढ़वा में सात दिन से एक गर्भवती महिला प्रसव के इलाज के लिए तड़पती रही। प्रशासन से आग्रह करने पर उन्हें जवाब मिला कि हम मंत्रियों के दौरे में व्यस्त हैं, इसलिए स्टैंडबाई चॉपर उपलब्ध नहीं हो सकता है।

जम्मू जिले के नगरोटा विधानसभा क्षेत्र में एमओएस वित्त मंत्री पहुंचे, लेकिन उनसे मिलने चुनिंदा भाजपा के लोगों को जाने दिया गया। मंत्रियों की रैली में भीड़ जुटाने के लिए सादे कपड़ों में सरकारी कर्मचारियों को बिठाया गया। मंत्रियों से जनप्रतिनिधियों को दूर रखा गया।

मीर ने कहा कि जम्मू-कश्मीर को राज्य का दर्जा वापस दिलाने, युवाओं को नौकरियां, भूमि के अधिकार दिलाने के लिए कांग्रेस का संघर्ष जारी रहेगा। पूर्व राज्यपाल ने 50000 नौकरियां देने के दावा किया था, लेकिन वह सिर्फ घोषणा तक ही रहा। सरकार जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन एक्ट में संशोधन लाए और अपनी गलती के लिए संसद में माफी मांगे।