पुलवामा हमले के विरोध में जम्मू में भारी बवाल, 50 से अधिक गाड़ियों को फूंका, 40 से ज्यादा लोग घायल

पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हमले के बाद जम्मू बंद के दौरान शुक्रवार को भारी बवाल हो गया। गुज्जर नगर इलाके में दो समुदाय के लोग आपस में भिड़ गए। दो दर्जन से अधिक गाड़ियों को फूंक दिया गया। दोनों गुटों के बीच पत्थरबाजी के बाद आंसू गैस के गोले दागे गए। हिंसक झड़पों में डीआईजी विवेक गुप्ता समेत 40 से अधिक लोग जख्मी हो गए।

रघुनाथ मंदिर इलाके में 30 से अधिक गाड़ियों को फूंक दिया गया। हालात की गंभीरता को देखते हुए शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया है। गुज्जर नगर और रघुनाथ मंदिर के आस-पास सेना तैनात कर दी गई है। हमले के विरोध में प्रदर्शनकारी गुज्जर नगर इलाके में पहुंचे। यहां कश्मीर नंबर की गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया गया।

इस पर दूसरे समुदाय के लोगों ने सामने आकर विरोध करना शुरू कर दिया। इस बीच दोनों ओर से पथराव शुरू हो गया। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए आंसू गैस के गोले दागने पड़े। इससे इलाके में भगदड़ की स्थिति रही। पूरे इलाके में तनाव है।

सड़कों पर तिरंगे के साथ जनसैलाब

देर शाम बेकाबू भीड़ ने बाग ए बाहु पुलिस स्टेशन पर भी पथराव किया। पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच जमकर पथराव किया गया। आरएस पुरा इलाके में एक निर्माणाधीन धर्मस्थल में भी आक्रोशित भीड़ ने घुसकर तोड़फोड़ की। इन्हें भगाने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले दागे।

हालांकि, बताया जा रहा है कि बिना अनुमति के यह धर्मस्थल बनाया जा रहा था, जिससे लोगों में गुस्सा था। जम्मू के दोमाना इलाके में प्रदर्शन के दौरान नारे लगाते हुए हार्ट अटैक से मुट्ठी निवासी युवक नरेंद्र टगोत्रा (लवली) की मौत हो गई। सतवारी चौक पर भी एक वाहन में तोड़फोड़ की कोशिश की गई। कठुआ के दियालाचक इलाके में भी कश्मीर नंबर की गाड़ियों में तोड़फोड़ की गई।

पाकिस्तान के खिलाफ नारेबाजी हमले के विरोध में जम्मू में सड़कों पर जनसैलाब उतर पड़ा। जगह-जगह तिरंगे के साथ लोगों ने प्रदर्शन किए। सड़कों पर टायर जलाकर विरोध प्रदर्शित किया। पाकिस्तान के खिलाफ नारे लगाए। सभी प्रमुख बाजार बंद रहे। सड़कों से सार्वजनिक वाहन नदारद रहे। तवी पुल को लोगों ने पूरे दिन लगभग जाम कर रखा।