जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर सुरक्षा को किया गया कड़ा, तैनात किए गए हाईवे पेट्रोलिंग के नए वाहन

जम्मू पुलिस ने 300 किलोमीटर लम्बे जम्मू-श्रीनगर हाईवे की सुरक्षा को लेकर एक बड़ा कदम उठाया है. लॉकडाउन के चलते पुलिस की ड्यूटी में हुए कुछ बदलावों की आड़ लेकर पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों को आजम ना दे इसके लिए जम्मू पुलिस ने जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर सुरक्षा को और पुख्ता किया है. हाईवे पर किसी भी आतंकी हमले या आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए जम्मू पुलिस ने हाईवे पेट्रोलिंग के नए वाहन तैनात किये हैं.

जम्मू पुलिस ने कठुआ, साम्बा, जम्मू, उधमपुर और रामबन जिलों में हाईवे पेट्रोलिंग को सुदृढ़ करने के लिए नए वाहन मंगवाए हैं. जिन नए वाहनों को हाईवे पेट्रोल दस्ते में शामिल किया गया है उनमें कई आधुनिक उपकरण लगाए गए हैं. साथ ही इन वाहनों में अधिक लोगों के बैठने की क्षमता है. जम्मू पुलिस का दावा कि यह नया हाईवे-पेट्रोल दस्ता किसी भी आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए पहली प्रतिक्रिया देगा. हाईवे पेट्रोल के इन वाहनों में गति के साथ-साथ करीब 10 लोगों के बैठने की क्षमता इसे मौजूदा पेट्रोलिंग वाहनों से अलग बनाती है.

सूत्रों की माने तो इस समय पाकिस्तान एलओसी पर लगातार युद्धविराम उल्लंघन कर आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश कर रहा है. ऐस में अगर पिछला रिकॉर्ड देखा जाये तो जम्मू श्रीनगर नेशनल हाईवे पर कई बार आतंकियों के साथ एनकाउंटर हुआ है. जिसके चलते हाईवे की सुरक्षा को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता.

जम्मू पुलिस के एसपी रूरल सुरम सिंह के मुताबिक इस नए हाईवे-पेट्रोल दस्ते का मुख्य मकसद हाईवे पर सुरक्षा ग्रिड को मजबूत करना है. इसके साथ ही यह हाईवे पर कानून व्यवस्था को और मजबूत करेगा. उन्होंने बताया कि इन वाहनों ने 10 लोग बैठ सकते हैं और इसके साथ ही नए होने की कारण गति और कुछ आधुनिक उपकरण जैसे पब्लिक एड्रेस सिस्टम, साइरन और फ्लैश लाइट इन वाहनों को दूसरों से अलग बनाती है.